स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बुरे दिन आने से पहले शनि देव देते हैं 11 संकेत, बचना है प्रकोप से तो करें ये उपाय

Pawan Tiwari

Publish: May 10, 2019 17:55 PM | Updated: May 10, 2019 17:55 PM

Worship

बुरे दिन आने से पहले शनि देव देते हैं 11 संकेत, बचना है प्रकोप से तो करें ये उपाय

कहा जाता है कि शनि देव एक राशि ढाई साल के लिए रहते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, किसी भी शख्स के अच्छे या बुरे दिन शुरू होने से पहले ही उसे संकेत मिलने लगते हैं।

माना जाता है कि प्रकृति भी शनि देव के शुभ-अशुभ प्रभाव के लक्षण व्यक्ति जरूर देती है। आज हम आपको बताएंगे कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव किस तरह के संकेत देते हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि की साढ़ेसाती अथवा ढ़ैय्या में जीवन में बदलाव अवश्य आता है। कहा जाता है कि यह बदलाव अच्छा होगा या बुरा, ये आपकी जन्म कुंडली तय करेगी। आइये जानते हैं कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव के संकेत....

1. प्रॉपर्टी संबंधित विवाद

2. भाइयों से विवाद और परिवार के सदस्यों के साथ मनमुटाव

3. अनैतिक संबंधों में फंसना

4. बहुत ज्यादा कर्ज होना और उसे उतारने में असमर्थ होना

5. कोर्ट—कचहरी के चक्कर लगाना

6. किसी अच्छी जगह से अनचाही जगह पोस्टिंग

7. प्रमोशन में बाधा

8. हर समय झूठ का सहारा लेना

9. बुरी लत लगना

10. व्यापार या व्यवसाय में मंदी आना

11. नौकरी से निकाला जाना

अगर आपको इस तरह के संकेत मिल रहे हैं तो शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की विधि-विधान से पूजा करें। रविवार को छोड़कर आप किसी दिन भी पीपल के पेड़ की पूजा कर सकते हैं। पीपल की पेड की पूजा करने के लिए सूर्योदय से पहले जागें और नित्यक्रिया करने के बाद स्नान कर लें और सफेद वस्त्र धारण कर पीपल की जड़ में गाय का दूध, तिल और चंदन मिलाकर पवित्र जल अर्पित करें। उसके बाद धूप दीप जलाकर इस मंत्र का जाप करें।

मूलतो ब्रह्मारूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे
अग्रतः शिवरूपाय वृक्ष राजाय ते नमः
आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसंपदम्
देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:

इस मंत्र का जाप करने के बाद कपूर और लौंग जलाकर आरती करें, उसके बाद प्रसाद ग्रहण करें। पीपल के जड़ में अर्पित थोड़ा सा जल घर लेकर आएं और उस जल को सारे घर में छिडकें। अगर आप इस तरह पीपल के पेड़ की पूजा करते हैं तो शनि के प्रकोप से मुक्ति मिल सकती है।