स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस खास भैंस के प्रेग्नेंट होने पर पूरा राज्य मना रहा है जश्न, सब जुटे देखरेख में

Priya Singh

Publish: Jul 20, 2019 13:06 PM | Updated: Jul 20, 2019 13:06 PM

Weird

  • वनभैंस के मां बनने पर पूरे राज्य में खुशी की लहर
  • उदंती अभयारण्य में बची है केवल एक ही मादा भैंस
  • छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh ) का राज्य पशु है वनभैंस

नई दिल्ली। हाल ही में छत्तीसगढ़ में एक भैंस के प्रेग्नेंट होने पर पूरा राज्य खुशियां मानने में जुटा है। ये कोई आम भैंस नहीं है बल्कि एक खास प्रजाति की भैंस है जिसे वनभैंस ( wild water buffalo ) के नाम से जाना जाता है। तीन दशकों में भैंस की इस खास प्रजाति में 50 प्रतिशत गिरावट आई है। आंकड़ों के मुताबिक, ये खास प्रजाति धीरे-धीरे विलुप्त होने की कगार पर है। छत्तीसगढ़ में पशु प्रेमियों को जब से पता चला है कि एक मादा भैंस मां बनने वाली है सभी उसकी देखरेख में जुटे हैं। इलाके में हर तरह इसी भैंस की चर्चा हो रही है।

बेंगलुरु में मटन की जगह परोसा जा रहा कुत्ते का मांस! जानें कैसे हुआ खुलासा

Wild water buffalo chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के लोग इस वनभैंसा को प्यार से खुशी बुलाते हैं। वन अमले के लोग खुशी के स्वास्थ का पूरा ख्याल रख रहे हैं। अमले का कहना है कि इस महीने के आखिरी तक खुशी बच्चे को जन्म दे सकती है। डॉक्टर भी समय-समय पर खुशी का चेकअप करने आ रहे हैं। खुशी की देखरेख में कोई कमी न रह जाए इसके लिए कोई न कोई उसके आस-पास रहता है। खुशी के मां बनने पर वन विभाग को वनभैंस की इस खास प्रजाति को बचाने की एक आस नज़र आई है वो उसकी सफल डेलिवरी कराने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं।

रात के अंधेरे में यहां घरों पर होती है पत्थरबाजी, लोग कह रहे- 'भूतों की है कारस्तानी'

Asian buffalo

गौरतलब है वनभैंस छत्तीसगढ़ का राज्य पशु है जो विलुप्त होने के कगार पर है। इस बात का अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं कि उदंती अभयारण्य में सिर्फ 8 वनभैंसे बचे हुए हैं जिनमें से केवल दो भैसें मादा हैं। जिनको आशा और खुशी नाम दिया गया है। आशा बुजुर्ग हो गई है वह अब मां नहीं बन सकती। जिसके बाद अब खुशी से सबकी उम्मीदें जुड़ी हैं।

युवती के शरीर में नहीं था मलद्वार, 20 साल तक पेशाब के रास्ते करती रही मलत्याग