स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शार्क को टक्कर देती है छत्तीसगढ़ की 150 किलो की मछली, गांव वाले कुल्हाड़ी से काटकर करते हैं बंटवारा

Soma Roy

Publish: Feb 13, 2020 15:10 PM | Updated: Feb 13, 2020 15:10 PM

Weird

  • Catfish of Chhattisgarh : स्थानीय भाषा में इसे बोध मछली कहा जाता है
  • यह मछली छत्तीसगढ़ के इंद्रवाती नदी में पाई जाती हैै

नई दिल्ली। भारी भरकम मछली (Fish) का नाम सुनते ही शार्क जैसी बड़ी मछली का ही नाम ध्यान आता है, लेकिन छत्तीसगढ़ में पाई जाने वाली एक मछली दूसरों को कांटे की टक्कर देती हैं। इस मछली का नाम कैटफिश (Catfish) है। इनका वजन 150 किलोग्राम से भी ज्यादा होता है। इतने बड़े आकार की वजह से गांव के लोग इसे कुल्हाड़ी से काटकर बंटवारा करते हैं।

[MORE_ADVERTISE1]

स्थानीय भाषा में मछली का नाम बोध है। ये छत्तीसगढ़ के इंद्रवाती नदी में पाई जाती हैै। इन मछलियों की प्रजाति लगातार विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गई। है। क्योंकि इन्हें मछुवारे अपनी आजीविका के लिए पकड़ते हैं और बेच देते हैं।

आदमखोर कुत्तों ने जिंदा शख्स पर बोला धावा, नोंच-नोंचकर खा गए मांस

[MORE_ADVERTISE2]machli.jpg[MORE_ADVERTISE3]

इस मछली को बस्तर का शार्क भी कहा जाता है। बोध मछली का वैज्ञानिक नाम बोमरियस है। चूंकि यह मछली बिना पानी के भी लंबे समय तक जीवित रह सकती है इसलिए कई खरीदार इसे जिंदा ही खरीद लेते हैं। ये मछली इतनी ज्यादा बड़ी होती है कि इसे अगर कोई गांव वाला पकड़ता है तो कुल्हाड़ी से काटकर इसका बंटवारा करता है। ठीक उसी तरह मछुआरे भी काटकर ही इसे बेचते हैं।