स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

vidisha district hospital : एक पलंग पर दो से तीन बच्चे एडमिट, माताओं को जागकर काटनी पड़ रही रात

Bhupendra Malviya

Publish: Aug 24, 2019 12:01 PM | Updated: Aug 24, 2019 12:01 PM

Vidisha

अस्पताल के शिशु वार्ड में बढ़ रही बीमार बच्चों की संख्या।

विदिशा। जिला अस्पताल District Hospital के शिशु वार्ड children ward में भर्ती मरीजों patients admitted की संख्या बढ़कर दोगुनी हो गई है। इससे परिजनों की परेशानी बढ़ रही है। वहीं ओपीडी में भी बीमार बच्चों की संख्या पहले से अधिक हो गई है। अस्पताल के इस वार्ड में बच्चों के उपचार के लिए दो हॉल और कुल 25 पलंग उपलब्ध है। अभी तक भर्ती बच्चों की संख्या सामान्य थी लेकिन पिछले तीन दिनों में यह संख्या दोगुनी हो जाने से संसाधन कम पड़ रहे। एक पलंग पर दो-दो मरीजों का उपचार चल रहा है।

 

25 पलंग पर 53 बच्चे भर्ती रहे
शुक्रवार को 25 पलंग पर 53 बच्चे भर्ती रहे। इसमें बुखार, सर्दी जुकाम, पेटदर्द, खून की कमी के मरीज आ रहे हैं। चिकित्सकों के अनुसार बारिश में दूषित जल और दूषित खानपान के कारण बच्चों के बीमार होने की संभावना बनी रहती है। यह आ रही मुश्किल एक पलंग पर दो बच्चों के भर्ती रहने उनकी माताओं को भी पलंग पर रुकना पड़ता है।

 

महिलाओं को समझाना पड़ रहा
ऐसे में एक पलंग पर चार लोगों के रहने से बच्चे ठीक से आराम नहीं कर पा रहे और उनकी माताओं को भी रात जागकर काटना पड़ रही। अस्पताल परिसर स्थित चौकी के पुलिसकर्मियों का कहना है कि रात में एक पलंग पर अधिक बच्चों की स्थिति में महिलाओं के बीच विवाद की नौबत बन रही और सूचना पर वार्ड में पहुंचकर महिलाओं को समझाना पड़ रहा।


मौसम की प्रतिकूलता के कारण बीमार बच्चों की संख्या बढ़ी है। बच्चों को स्वच्छ जल एवं स्वच्छ भोजन देने का ध्यान परिजनों को रखना चाहिए।
डॉ. एमके जैन, शिशु रोग विशेषज्ञ, जिला अस्पताल