स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

MP में बारिश की मार के चलते स्कूल और धर्मशालाओं में ठहरने को मजबूर हुए लोग! दूसरों के घरों से पहुंचाया खाना

Deepesh Tiwari

Publish: Sep 13, 2019 18:03 PM | Updated: Sep 13, 2019 18:03 PM

Vidisha

घरों में भरा पानी,लगातार बारिश से शहर के करीब सभी रास्ते हुए बंद...

गंजबासौदा। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के पास स्थित विदिशा के गंजबासौदा क्षेत्र में पिछले तीन दिनों से लगातार भारी बारिश के चलते शहर की सड़कें जलमग्न ( Flood in MP ) दिखाई दीं। शहर में एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचने में काफी मशक्कत करनी पड़ी।

दोपहिया वाहन हों या चार पहिया वाहन बमुश्किल ही पानी ( water Danger ) के बीच से निकल सके हैं। कई दोपहिया वाहनों में तो बारिश का पानी भर गया। जिसके चलते लोग उन्हे धकाते हुए नजर आए।

MP में बारिश की मार के चलते स्कूल और धर्मशालाओं में ठहरने को मजबूर हुए लोग! दूसरों के घरों से पहुंचाया खाना

सावरकर चौक से लेकर हनुमान चौक तक अधिक पानी का भराव होने के चलते काफी समय तक टे्रफिक भी बंद ( Flood in MP ) रहा। जैसे-जैसे पानी कम होता गया वैसे-वैसे आवागमन शुरू होता गया।

जल निकासी के इंतजाम न होने के चलते शहर की सड़कों व गलियों में पानी ही पानी ( heavy rain ) दिखाई दिया। लोगों के घरों में पानी भरा रहा।

तो प्रशासन ने रेस्क्यू कर कई लोगों को घरों से निकाला और उन्हे सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया जहां पर खाने-पीने की व्यवस्था भी की गई। जो लोग घरों में पानी में कैद थे उन्हे भी घरों तक शहर की समाजसेवी संस्थानों ने खाना पहुंचाया।

MP में बारिश की मार के चलते स्कूल और धर्मशालाओं में ठहरने को मजबूर हुए लोग! दूसरों के घरों से पहुंचाया खाना

इन स्थानों पर की थी ठहरने की व्यवस्था
एसडीएम प्रकाश नायक से मिली जानकारी के मुताबिक संस्कार गार्डन, कृष्णा गार्डन, उत्कृष्ट विद्यालय, एलबीएस कालेज, मानस भवन में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को रोकने की व्यवस्था की है।

साथ ही उनके खाने की भी व्यवस्था इन्ही गार्डनों में की है। बेदनखेड़ी टपरिया से जिन लोगों को प्रशासन ने बाहर निकाला था उन्हे शासकीय उत्कृष्ट स्कूल में ठहराया जहां उनके खाने एवं रुकने की व्यवस्था की गई।

MP में बारिश की मार के चलते स्कूल और धर्मशालाओं में ठहरने को मजबूर हुए लोग! दूसरों के घरों से पहुंचाया खाना

इन संस्थाओं ने की बाढ़ प्रभावितों की मदद
बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जहां पानी भर गया था वहां शहर की समाजसेवी संस्थाओं ने खाने की व्यवस्था की। रघुकुल युवा परिषद ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के घरों तक खाने के पैकेट पहुंचाए तो वहीं नगर पालिका के द्वारा भी घरों-घरों तक खाने के पैकेट पहुंचाए हैं। नपा के कर्मचारी भी भारी बरसात में लोगों के घरों तक खाना पहुंचाने में जुटे हुए थे।

MP में बारिश की मार के चलते स्कूल और धर्मशालाओं में ठहरने को मजबूर हुए लोग! दूसरों के घरों से पहुंचाया खाना

इसी के साथ प्रशासन ने स्व-सहायता समूहों में भी खाने के पैकेट बनवाकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों तक पहुंचाए। साथ ही अनाज तिलहन संघ के द्वारा मंडी में दो हजार से भी अधिक खाने के पैकेट बनवाए और उन्हे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों तक पहुंचाया गया।

शाम को एसडीएम ने मंडी पहुंचकर निरीक्षण किया और व्यापारियों के कार्य की सराहना की। साथ ही रघुकुल युवा परिषद जहां पर खाना तैयार करा रहा था वहां भी एसडीएम ने जाकर निरीक्षण किया और उनके कार्य की सराहना की।

नालों पर बने भवन, नहीं है निकासी
शहर में अधिकांश नालों पर अतिक्रमणकारियों ने अतिक्रमण कर भवन बना लिए हैं जिसके चलते संपूर्ण शहर की जल निकासी प्रभावित हो रही है और यही कारण है कि शहर में कई जगहों पर लगातार पानी भर रहा है। प्रशासन इन अतिक्रमणकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है।

बाजार रहा बंद
शहर में भारी बारिश के चलते बाजार बंद दिखाई दिए। सुबह से तेज बारिश के चलते दुकानदार अपनी-अपनी दुकानों तक नहीं पहुंच सके। यही कारण रहा कि शहर में कुछ चुनिंदा दुकानें ही खुल सकी।

वहीं कई दुकानों में तो बारिश का पानी भी भर गया। जिसके चलते व्यापारियों का सामान भी खराब हुआ है। सावरकर चौक से लेकर हनुमान चौक तक दिनभर बारिश का पानी भर रहा। जिससे व्यापारियों का सामान बारिश में खराब हुआ। देर रात बाजार से बारिश का पानी निकल सका। तब जाकर व्यापारियों ने अपना सामान सुखाया।