स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने दिया धरना, दो घंटे बंद रखा काम

Krishna singh

Publish: Sep 12, 2019 06:03 AM | Updated: Sep 11, 2019 23:28 PM

Vidisha

जिला अस्पताल के वार्डों का नहीं लिया राउंड, ऑपरेशन भी नहीं किए

विदिशा. मध्यप्रदेश मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कॉलेज परिसर में दो घंटे धरना दिया और नारेबाजी। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने इस दौरान कहा कि मांगें नहीं माने जाने पर 17 सितंबर को भोपाल में मुख्यमंत्री निवास तक रैली निकाली जाएगी। पूर्व घोषित आंदोलन के तहत सुबह कॉलेज के सभी चिकित्सक कॉलेज में ही रहे। सुबह 10 बजे से 12 बजे तक परिसर में धरने पर बैठकर मांगों के समर्थन में नारेबाजी करते रहे। एसोसिएशन से जुड़े चिकित्सकों के मुताबिक इस धरना आंदोलन से चिकित्सक जिला अस्पताल नहीं पहुंचे। इससे सुबह वार्डों का राउंड नहीं हुआ। हार्निया, हड्डी, नाक-कान-गला आदि रुटिन ऑपरेशन नहीं हो पाए। चिकित्सकों का कहना है कि यह प्रदेश स्तरीय आंदोलन है और प्रदेश के 13 शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय के चिकित्सक अपनी मांगों को लेकर आंदोलित है। इस दौरान एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. डीडी परमहंस, उपाध्यक्ष डॉ. नीति अग्रवाल, डॉ. अविनाश लागवे, सचिव मनीष निगम सहित कॉलेज के सभी डॉक्टर मौजूद रहे।

30 सितंबर को देंगे सामूहिक इस्तीफे
कॉ लेज चिकित्सकों के मुताबिक विधानसभा चुनाव के दौरान कांगे्रस ने चुनावी वचन-पत्र में चिकित्सा शिक्षकों की लंबित मांगों को सम्मिलित किया गया था लेकिन आज शासन स्तर पर कोईनिराकरण नहीं किया गया। इससे चिकित्सकों में आक्रोश है और मांगें मंजूर न होने की स्थिति में 30 सितंबर को डॉक्टर्स सामूहिक इस्तीफा दे देंगे।

यह हंै प्रमुख मांगें
चिकित्सकों की प्रमुख मांगों में विभागीय क्रमिक उच्चतर समयबद्ध वेतनमान, 1 जनवरी 2016 से सातवां वेतनमान, न्यू पेंशन स्कीम को शीघ्र लागू किया जाए, चाइल्ड केयर लीव की पात्रता, मेडिकल रीइंबर्समेंट की सुविधा दी जाए, समूह बीमा योजना लागू हो, रिटायरमेंट पर ग्रेच्युटी का लाभ मिले, 3 वर्ष की की बांड अवधि को समाप्त किया जाए आदि 13 मांगें शामिल हैं।

अस्पताल में रही भीड़
वहीं जिला अस्पताल में मरीजों की खासी भीड़ रही। सिविल सर्जन डॉ. संजय खरे ने बताया, अस्पताल में अल्टरनेट व्यवस्था के तहत चिकित्सा सेवा के लिए आज अस्पताल के चिकित्सकों का दिन था। सभी चिकित्सक अस्पताल में मौजूद रहे। हमने बारिश के कारण ऑपरेशन भी बंद कर रखे हैं।