स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

dead body in river : नदी में बहे दो युवकों में सेे एक का मिला शव , एक अभी भी लापता

Amit Mishra

Publish: Aug 20, 2019 13:38 PM | Updated: Aug 20, 2019 13:38 PM

Vidisha

मृतक संजीव सुनखेर पंचायत के सचिव थे

विदिशा। रविवार की शाम उफनती चंदेरी नदी Chanderi river को पार करते समय दो युवक young man तेज बहाव में बह गए थे। रात भर खोज में उनका पता नहीं चल सका था। सोमवार की दोपहर मक्सूदनगढ़ के गांव बीरपुर में एक युवक की dead body लाश झाडिय़ों में उलझी मिली है। जबकि एक युवक अब भी लापता missing है।


कुछ पता नहीं चला था

लटेरी से करीब 13 किमी दूर चंदेरी नदी को पैदल पार करते समय शाम करीब 6 बजे लटेरी निवासी करीब 32 वर्षीय नरेश शर्मा और 26 वर्षीय संजीव विश्वकर्मा पानी में बह गए थे। काफी तलाशने के बाद भी इनका पता नहीं चल सका था। रात को एनडीआरएफ की टीम ने भी तलाशा लेकिन कुछ पता नहीं चला।

शव को निकाला
सुबह फिर तलाश शुरू हुई और रेस्क्यू टीम युवकों की तलाश में चंदेरी नदी के उस हिस्से में पहुंची जहां चंदेरी पार्वती नदी में मिलती है। यहां लटेरी से करीब 25 किमी दूर मक्सूदनगढ़ तहसील के ग्राम वीरपुर के पास नदी किनारे की झाडिय़ों में फंसे संजीव विश्वकर्मा के शव को निकाला गया। संजीव सुनखेर पंचायत के सचिव हैं। हालांकि नरेश शर्मा का अभी भी पता नहीं चल सका है।

 

बीना नदी के छपरेट घाट पर मिला शव
मंडीबामोरा. उधर मंडीबामोरा क्षेत्र में बीना नदी के छपरेट घाट पर एक अज्ञात व्यक्ति का शव मिला है। इसकी शिनाख्त अभी नहीं हो सकी है।

छोटे पुलों के ऊपर बह रही बेतवा
प्रदेश में लगातार बारिश से नदियों का उफान अभी भी शांत नहीं हुआ है। विदिशा में बेतवा नदी सोमवार की दोपहर को भी चरणतीर्थ के छोटे पुलों के ऊपर बह रही थी। भारती मठ और मुक्तिधाम की ओर वाले रास्ते बंद थे। हालांकि पानी धीर-धीरे उतार पर था। उधर सुबह हल्की बारिश हुई, लेकिन फिर दोपहर होते-होते तेज धूप और उमस का माहौल शुरू हो गया।

 

बेहतर बारिश हुई
जिले में इस बार अब तक उम्मीद से बेहतर बारिश हो गई है। पिछले साल 20 अगस्त तक जिले में औसत वार्षिक बारिश कुल 581.5 मिमी दर्ज हुई थी, जबकि इस बार अब तक 857.6 मिमी बारिश हो चुकी है। हर तहसील में इस बार पिछले बार से बेहतर बारिश हुई है।

 

एक मीटर पानी की दरकार
हालांकि अभी कुल औसत वार्षिक वर्षा 1075.5 को पूरा होने में 218 मिमी बारिश की जिले में और जरूरत है। भादों का महीना अभी चल रहा है उम्मीद है कि चंद रोज ही अगर अच्छी बारिश हो जाती है तो यह कोटा भी पूरा हो जाएगा। उधर हलाली बांध को पूरा भरने में अभी पूरे एक मीटर पानी की दरकार है।