स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दीवाली के बाद किसानों के खातों में आने लगेगी फसलों के नुकसान की राशि

Anil Kumar Soni

Publish: Oct 21, 2019 11:41 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:41 AM

Vidisha

प्रशासन ने कर ली पूरी तैयारी

विदिशा/ सिरोंज। प्रशासन द्वारा किसानों को बर्बाद फसलों के नुकसान की राशि देने के काम में अब तेजी की जा रही है। दीवाली के बाद से किसानों के खातों में राशि पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। एसडीएम ने सभी पटवारियों को मंगलवार तक सभी क्षतिपत्रक जमा करने के निर्देश दिए हैं और इस कार्य में लापरवाही बरतने वालों पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।

ब्लॉक के 302 गांवों में से 150 से अधिक गांवों में क्षति पत्रक पटवारियों द्वारा जमा कर दिए गए हैं। शेष गांवों के क्षतिपत्रक मंगलवार तक जमा करने के निर्देश एसडीएम संजय जैन ने पटवारियों को दिए हैं। उन्होंने तहसीलदार, नायब तहसीलदार, आरआई और पटवारियों को यह कार्य बहुत गंभीरता से करने के लिए कहा है।


काम को करवाया जा रहा
सभी गांव के क्षति पत्रक जमा हो जाने के बाद राशि के मांगपत्र जिला कार्यालय को भेजा जाएगा। इसके बाद सीधे किसानों के खातों में राशि डालने की प्रक्रिया शुरु होगी। एसडीएम के द्वारा पहले आंकलित रूप से 53 करोड़ रुपए की राशि का मांग पत्र भेजा गया था, लेकिन नुकसान की सही रिर्पोट उस समय नहीं आ पाई थी। शासन ने नुकसान की वास्तविक रिर्पोट मांगी है। जिसके चलते विगत दिनों प्रशासन द्वारा सख्ती से इस काम को करवाया जा रहा है।

नुकसान होना प्रशासन ने माना
रविवार को अवकाश के दिन भी काम चलता रहा। जिसमें उड़द, मूंग में शत-प्रतिशत नुकसान होना सामने आया है। वहीं सोयाबीन में 35 प्रतिशत से लेकर 50 प्रतिशत तक नुकसान होना प्रशासन ने माना है। उसके लिए राजस्व विभाग एवं कृषि विभाग के संयुक्त दल द्वारा गांवों में जाकर नुकसान की रिर्पोट दी थी। वही किसानों का कहना है कि सोयाबीन में कई गांवों में शत-प्रतिशत नुकसान हुआ है।

काम पूर्ण हो जाएगा

मंगलवार तक छत्ती पात्रक बनाने का काम पूर्ण हो जाएगा। उसके बाद एसडीएम के द्वारा नुकसान की फाइनल रिर्पोट बनाकर कलेक्टर को भेजी जाएगी। फिर वहीं से राशि का आवंटन होगा। एसडीएम ने सभी खातेदार किसानों से कहा है कि वे अपना बैंक खाता नम्बर और आईएफसी कोड संबंधित पटवारी के पास जमा कर दें। जिससे उनके खातों में राशि डालने में समय न लगे।