स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

परीक्षा के ठीक बाद भूख लगी तो शिक्षकों ने सरकारी स्कूल में ही पका डाला मुर्गा,लेकिन अचानक आ गए सीआरसी और संकुल प्राचार्य...

Govind Saxena

Publish: Jul 17, 2019 12:49 PM | Updated: Jul 17, 2019 13:50 PM

Vidisha

जिला पंचायत सीइओ ने दिए आदेश

विदिशा/ लटेरी। शासकीय प्राथमिक शाला इस्लामनगर में मध्यान्ह भोजन के समय किचिन शेड में मुर्गा पकवाए जाने के मामले में करीब 4 माह बाद चार शिक्षकों Teachers की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश notice जारी किए गए हैं। जिला पंचायत सीइओ ने ये आदेश जारी किए हैं। इसके साथ ही वहां का मध्यान्ह भोजन बनाने वाले स्व सहायता समूह का अनुबंध भी खत्म finish कर दिया गया है।


कार्रवाई की जा रही
जिला पंचायत सीइओ मयंक अग्रवाल ने इस्लामनगर प्राथमिक शाला की सहायक अध्यापक ममता चौधरी, राजेन्द्र धौरे, गणेशराम पंथी और सौदान सिंह पंथी की वेतनवृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकने के आदेश दिए हैं। आदेश में पत्रिका की खबर का उल्लेख है, जिसमें लिखा गया है कि-मध्यान्ह भोजन में पक रहा मुर्गा समाचार के संबंध में गठित समिति के जांच प्रतिवेदन के आधार पर कारण बताओ नोटिस जारी किए गए थे, लेकिन जवाब समाधानकारक न होने से यह कार्रवाई की जा रही है।

newsa

किचिन में ही मुर्गा पकवा दिया
इसके साथ ही सीइओ ने उस शाला में मध्यान्ह भोजन बनाने वाले इंदिरा स्व सहायता समूह का अनुबंध भी खत्म कर दिया है। गौरतलब है कि स्कूल के मध्यान्ह भोजन के समय मुर्गा पकने की खबर सामने आते ही विभाग की खूब फजीहत हुई थी। उधर यह बात भी सामने आई थी कि स्कूल में परीक्षाओं का समय था और उसी समय परीक्षा के बाद पार्टी मनाने की मंशा से शिक्षकों ने मध्यान्ह भोजन की किचिन में ही मुर्गा पकवा दिया था। लेकिन सीआरसी और संकुल प्राचार्य के अचानक आ जाने से उनका भंडाफोड़ हो गया और अंतत: कार्रवाई हुई।

 

यह था मामला...
11 मार्च को प्राथमिक शाला इस्लामनगर में मध्यान्ह भोजन के समय मुर्गा पकाया जा रहा था। अचानक निरीक्षण के लिए स्कूल पहुंचे सीआरसी और संकुल प्राचार्य ने मध्यान्ह भोजन के लिए जैसे ही बर्तन देखे तो वहां उन्हें मुर्गा पकता हुआ मिला। इस मामले की पूरी खबर सिर्फ पत्रिका में प्रमुखता से प्रकाशित हुई थी। करीब चार माह की अनेक स्तरों की जांच में खबर की पुष्टि हुई और शिक्षकों पर जिला पंचायत सीइओ ने कार्रवाई की-