स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बदमाशों ने 315 बोर की बंदूक से व्यापारी के ऊपर किए थे 13 फायर

Krishna singh

Publish: Jul 18, 2019 07:02 AM | Updated: Jul 17, 2019 00:06 AM

Vidisha

हत्या की घटना से आधे दिन बंद रहा सराफा बाजार, व्यापारियों ने विरोध जताया, एसपी को सौंपा ज्ञापन

विदिशा. सतपाड़ा हाट से लौट रहे सराफा व्यापारी यशपाल सोनी से विवाद के दौरान घटना स्थल पर 12 और उससे करीब 500 फीट 1 फायर हुआ था। ये सभी फायर 315 बोर की बंदूक से हुए हैं। घटना के दूसरे दिन भी पुलिस इस नतीजे पर नहीं पहुंच पाई कि हत्या की वजह क्या थी? वह वजह क्या थी कि आरोपियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। मामले में पूछताछ के लिए पुलिस ने कुछ लोगों को बैठाया है, लेकिन अभी स्थिति साफ नहीं हो पा रही है। उधर सराफा व्यापारियों ने आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर आधे दिन सराफा बाजार बंद रखा और एसपी को ज्ञापन दिया।
सराफा व्यापारी कीे हत्या से सराफा व्यापारियों में रोष है। सुबह से दोपहर तक विदिशा के सराफा व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद रखी और एसपी से मिले। व्यापारियों का कहना है कि अगर आरोपी शीघ्र नहीं पकड़े गए तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। वहीं शमशाबाद विधायक राजश्रीसिंह सिंह ने कहा कि मामला विधानसभा में उठाया जाएगा। मालूम हो कि सोमवार की शाम नटेरन निवासी करीब 30 वर्षीय सराफा व्यापारी यशपाल सोनी पर सतपाड़ा हाट से लौटते समय बाइक सवारों ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाई इससे सोनी की मौत हो गई वहीं रमपुरा टोपली निवासी सुनील विश्वकर्मा को गंभीर घायल होने के कारण भोपाल रेफर किया गया। सुबह यशपाल के शव का जिला अस्पताल में पीएम किया गया। इस दौरान उसके परिजन, समाज के लोग सहित पुलिस बल मौजूद रहा। शमशाबाद विधायक राजश्रीसिंह भी अस्पताल पहुंची और घटना को निंदनीय बताया।

 

बड़े बाजार में हुई सभा, जताया रोष
घटना के विरोध में सुबह से शहर का सराफा बाजार बंद रहा। सभी व्यापारी बड़ा बाजार में एकत्रित हुए और सभा की। व्यापारियों का कहना है कि वे अपने व्यवसाय में असुरक्षित होते जा रहे। पहले बड़ा बाजार में पुलिस का एक-चार का सुरक्षा बल रहता था जो हटा दिया गया। हाट बाजारों में भी पहले पुलिस बल मौजूद रहता था लेकिन अब हाट बाजारों में पुलिस तैनात नहीं रहती। आए दिन सराफा व्यवसायियों पर हमले हो रहे पर सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए जाते।

विधानसभा में उठाएंगे मामला
शमशाबाद विधायक राजश्री सिंह जिला अस्पताल पहुंची और मृतक के परिजनों से चर्चा की। विधायक ने कहा कि वे बुधवार को इस मामले को विधानसभा में उठाएंगी। उन्होंने कहा कि घटना शर्मनाक व निंदनीय है। हमारे क्षेत्र में यह दूसरी-तीसरी घटना है। उन्होंने सतपाड़ा पुलिस की कार्यप्रणाली पर नाराजी जताई। उन्होंने कहा कि पुलिस डेढ़ घंटे बाद मौके पर पहुंची। इस पर विशेष कार्रवाई कराई जाएगी।

 

रंजिश की आशंका
हालांकि परिजन किसी भी प्रकार की रंजिश से इंकार कर रहे हैं, लेकिन फिर भी पुलिस इस स्थिति पर भी नजर रखे हुए है। पुलिस को मिल रही सूचना के अनुसार आरोपियों और मृतक के बीच कुछ बात भी हुई थी, इसे पुरानी रंजिश से लेकर जोड़ा जा रहा है।

फॉरेंसिक टीम ने किया पीएम
जिला अस्पताल में शव का पीएम फॉरेंसिक टीम से कराया गया। इसमें मेडिकल कॉलेज के फारेंसिक विशेषज्ञ व जिला अस्पताल के डॉ. प्रदीप गुप्ता शामिल रहे। शव के पीएम के दौरान जिला अस्पताल परिसर में तहसीलदार आशुतोष शर्मा, सीएसपी भारतभूषण शर्मा, सिविल लाइन टीआई राजेश सिन्हा सहित पुलिस बल, स्वर्णकार समाज के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश सोनी सहित बड़ी संख्या में समाजजन मौजूद रहे।

 

पुलिस की कई टीमें गठित
इधर एसपी वर्मा ने बताया कि मामले की जांच एवं आरोपियों तक पहुंचने के लिए कई टीमें गठित की गई हैं। इसमें बासौदा एसडीओपी एवं लटेरी एसडीओपी की दो टीम बनाईगई। वहीं क्राइम ब्रांच के अलावा करीब आठ टीमों को सक्रिय किया गया है। मामले में लूट का इरादा था या व्यक्तिगत रंजिश इन बिंदुओं पर जांच की जा रही। मामले में एक चश्मदीद गवाह सेऊ निवासी शुभम ठाकुर है जो गाड़ी में साथ था। इसने घटना देखी है। घटना में घायल सुनील विश्वकर्मा ग्राम रमपुरा टोकली निवासी आम व्यक्ति है। इसे धोखे से गोली लगी। उसका उपचार हमीदिया अस्पताल में चल रहा है। एसपी ने बताया कि पुराने अपराधियों से भी पूछताछ की जा रही।

व्यापारियों ने दी आंदोलन की चेतावनी
सभा के बाद संयुक्त सराफा एसोएिशन के बैनर तले सराफा व्यापारी एसपी ऑफिस पहुंचे और मुख्यमंत्री के नाम एसपी विनायक वर्मा को ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन के महामंत्री नरेंद्र सोनी ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पांच दिन का समय पुलिस को दिया गया है। अगर इस दौरान आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो विदिशा, जिला बंद आंदोलन के अलावा मंत्रियों का घेराव व उग्र आंदोलन करने के लिए व्यापारी विवश होंगे। इस दौरान मृतक के परिवार को शासन की ओर से समुचित मुआवजा दिलाने, हाट बाजारों में सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराने, सराफा व्यवसायियों को शस्त्र लायसेंस उपलब्ध कराने आदि मांगें की गई। इस दौरान व्यापार महासंघ के अध्यक्ष मुन्नाभैया जैन सहित आशीष मोदी, राजीव पीतलिया, वैभव सराफ, शैलेंद्र सोनी, केजी जौहरी, प्रेमनारायण सराफ आदि मौजूद रहे।