स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिले की 300 किमी. सड़कों और 76 पुलियाओं को लील गई बारिश

Krishna singh

Publish: Sep 16, 2019 07:04 AM | Updated: Sep 15, 2019 23:29 PM

Vidisha

सात विभागों द्वारा किया जा रहा सड़कों-पुल, पुलिया के नुकसान का आकलन

विदिशा. जिले में भारी और अनवरत बारिश ने करीब 25 करोड़ की सड़कों और पुल-पुलियाओं की बलि ले ली है। इसमें जिले की करीब 300 किमी लम्बी सड़क बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई है, जबकि करीब 100 पुल-पुलियांं भी बुरी तरह टूट गई हैं। ये सड़कें और पुल-पुलिया लोक निर्माण विभाग के साथ ही मप्र सड़क विकास निगम, नेशनल हाइवे, एनएचआइ, प्रधानमंत्री सड़क योजना और मुख्यमंत्री सड़क योजना के साथ ही ग्राम पंचायतों के हिस्से की हैं। इन सभी विभागों के हुए नुकसान की समीक्षा होना है। इनमें से सड़कों और पुलियों की मरम्मत के लिए लोक निर्माण विभाग ने अपने हिस्से के काम के लिए करीब 8 करोड़ रुपए का एस्टीमेट बनाया है। हालांकि जब तक एस्टीमेट मंजूर होगा, काम शुरू होगा और काम पूरा होगा तब तक लाखों लोगों को इन्हीं खराब सड़कों और पुल-पुलियाओं से जूझते हुए अपना काम चलाना पड़ेगा।

76 पुल-पुलियां हुईं क्षतिग्रस्त, सुधारने में लगेंगे 2 करोड़
लोक निर्माण विभाग की मानें तो जिले में भारी बारिश से 76 पुल-पुलियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुईं हैं। इनमें से सबसे ज्यादा पुल-पुलियां विदिशा तहसील की टूटी हैं, इनकी संख्या 25 है। इन्हें सुधारने के लिए लोनिवि ने 56 लाख 60 हजार रुपए का एस्टीमेट बनाया है। जबकि शमशाबाद में 18, नटेरन-सिरोंज में 12, कुरवाईमें 12, लटेरी में 7 और ग्यारसपुर में 2 पुल-पुलियां टूटी हैं। इन सभी की मरम्मत करने अथवा नया बनाने के लिए 2 करोड़ से ज्यादा का एस्टीमेट बनाकर शासन से राशि की मांग की गई है।

जिले की 46 किमी महत्वपूर्ण सड़कें बुरी तरह क्षतिग्रस्त
जिले की कई महत्वपूर्ण सड़कों की बारिश ने बखिया उधेड़ दी है। इसमें से लोनिवि की करीब 46 किमी मुख्य सड़कें बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। इनकी मरम्मत में करीब 1 करोड़ 63 लाख रुपए खर्च होने का अनुमान है। इन सड़कों में बासौदा-बरेठ-उदयपुर मार्ग, करारिया-शमशाबाद मार्ग, लटेरी-शमशाबाद मार्ग, गुरोद-पिपलधार मार्ग, बासौदा-गुरोद-सोमवारा-ऐंचदा, इमलिया-सिरोंज मार्ग, सुल्तनियां-पीपलखेड़ा-सलैया मार्ग और जरोद बायपास की सड़कें शामिल हैं।

प्रभारी सचिव द्वारा समीक्षा आज
सा माजिक न्याय एवं नि:शक्त कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव एवं जिले के प्रभारी सचिव जेएन कंसोटिया सोमवार को नए कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में सुबह 10.30 बजे से समीक्षा बैठक आयोजित की है। प्रभारी सचिव जिले में वर्षा की स्थिति, भारी वर्षा से हुए नुकसान का आकलन, आपदा, राहत, सीमांकन, बंटवारा, नामांतरण की स्थिति जिले में खाद, बीज की उपलब्धता एवं फसल नुकसान का आकलन, फसल बीमा योजना की जानकारी, खाद्य पदार्थों में मिलावट के प्रकरणों की समीक्षा की जाएगी।

कई विभागों की सड़कों का नुकसान
जिले में लोक निर्माण विभाग, नेशनल हाइवे, एनएचआइ, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क, मुख्यमंत्री ग्रामीण सड़क योजनाओं के साथ ही पंचायतों द्वारा निर्मित सड़कें और पुल-पुलिया भी शामिल हैं, जिनका बड़ा नुकसान हुआ है।

कहां कितनी मुख्य सड़कें खराब
मार्ग का नाम क्षतिग्रस्त लंबाई मरम्मत की लागत
बासौदा-बरेठ-उदयपुर 10 किमी 45 लाख
करारिया-शमशाबाद 2 किमी 12 लाख
लटेरी-शमशाबाद 15 किमी 30 लाख
गुरोद-पिपलधार 1 किमी 6 लाख
बासौदा-गुरोद-सिरोंज 10 किमी 30 लाख
सुल्तनिया-सलैया 7 किमी 38 लाख
जरोद बायपास 1 किमी 2 लाख
कुल 46 किमी 163 लाख
(ये लोनिवि के हिस्से की सड़कें हैं)

कहां कितनी ग्रामीण सड़कें बहीं
तहसील टूटी सड़क मरम्मत का एस्टीमेट
बासौदा 45 किमी 5 लाख
नटेरन 12 किमी 37.70 लाख
लटेरी 30 किमी 7 लाख
नटेरन/सिरोंज 19 किमी 27.50 लाख
विदिशा 30.70 किमी 136.67 लाख
ग्यारसपुर 8.50 किमी 20 लाख
कुरवाई 15.20 किमी 52.70 लाख
कुल 123.10 किमी 430.97 लाख
(ये सड़कें लोनिवि के हिस्से की हैं)