स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

थानाध्यक्ष के काम की मुरीद थी जनता, हुआ तबादला तो लिपट कर रो पड़े लोग

Devesh Singh

Publish: Aug 19, 2019 15:56 PM | Updated: Aug 19, 2019 15:56 PM

Varanasi

सम्मान के साथ दी गयी विदाई, एसओ की कार को लोगों ने खुद धक्का लगाया

वाराणसी. पुलिस की कार्यशैली से लोगों में नाराजगी रहती है लेकिन कुछ पुलिसकर्मी ऐसे होते हैं, जो अपने काम से लोगों के दिल में जगह बनाने में सफल रहते हैं। ऐसे पुलिस ऑफिसर का जब तबादला होता है तो पता चलता है कि उन्हें लोग कितन पसंद करते हैं। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने कई थानेदार को इधर से उधर किया है उसी में मंडुवाडीह एसओ रहे संजय त्रिपाठी का तबादला एसएसपी के पीआरओ सेल में हुआ है। सोमवार को जब थानेदार अपना थाना छोड़ कर जाने लगे तो जनता की भारी भीड़ जमा हो गयी। लोग उनसे लिपट कर रोने लगे। जाते समय लोगों ने खुद कार का धक्का लगा कर सम्मान के साथ विदाई दी।
यह भी पढ़े:-इधर से उधर किये गये कई थानेदार, थाना प्रभारी स्तर के थानों पर तैनात थे एसएसआई



SO Sanjay Tripathi
IMAGE CREDIT: Patrika
SO Sanjay Tripathi
IMAGE CREDIT: Patrika

संजय त्रिपाठी अपने मधुर व्यवहार व लोगों से अच्छे बर्ताव के लिए जाने जाते हैं। मंडुवाडीह में लगभग एक साल तक एसओ रहने के दौरान उन्होंने पीडि़तों की हर संभव मदद की थी जिसके चलते ही स्थानीय लोगों से लेकर थाने के पुलिसकर्मियों में उन्हें बहुत पसंद करने लगे थे। मंडुवाडीह एसओ बनने के बाद उन्होंने थाना का कायाकल्प कर दिया था। जो थाना कभी खंडहर दिखता था उसे नये सिरे से बनवा कर सभी को थाना में आधारभूत सुविधाए दिलायी थी। सावन में जब कांवरियों का आधा दर्जन से अधिक मोबाइल गायब हो गया था तो २४ घंटे के अंदर ही सोनभद्र से चोरी किये गये मोबाइल को बरामद कराने में सफलता पायी थी जिससे कावंरिये भी बहुत खुश हुए थे। एसओ रहे संजय त्रिपाठी उस समय भी चर्चा में आये थे जब एसएसपी के आदेश पर सार्वजनिक जगहों पर शराब पीने वालों के खिलाफ अभियान चलाया था और एक बस भर कर शराबियों को पकड़ा था। स्थानीय लोगों ने सम्मान के साथ संजय त्रिपाठी को थाने से विदाई दी है। पहले उन्हें माला पहनाया गया था और फिर मिठाई खिलायी गयी। इसके बाद लोग गले मिल कर रो पड़े थे। अंत में जब वह थाने से जाने लगे से लोगों ने सम्मान जताते हुए उनकी कार को धक्का भी दिया।
यह भी पढ़े:-बिना गंगा घाट गये ही देख सकेंगे गंगा आरती

 

SO Sanjay Tripathi
IMAGE CREDIT: Patrika