स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बोलीं प्रियंका गांधी, शीला दीक्षित का निधन मेरी व्यक्तिगत क्षति, बहुत प्यार करती थीं मुझसे

Ajay Chaturvedi

Publish: Jul 20, 2019 19:51 PM | Updated: Jul 20, 2019 19:51 PM

Varanasi

-शीला दीक्षित का निधन देश के लिए बड़ी राजनीतिक क्षति
- कांग्रेस का सबसे ज्यादा नुकसान
-दिल्ली के विकास के लिए उन्होंने काफी कुछ किया

वाराणसी. दिल्ली की सीएम और यूपी की बहू शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया है। उनके निधन का समाचार जानते ही कांग्रेसजनों मे शोक की लहर दौड़ गई है। यह सूचना पार्टी महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी को तब मिली जब वह बनारस में थीं। सूचना मिलते ही वह फौरन दिल्ली के लिए रवाना हो गईं।

एयरपोर्ट पर मीडिया से मुखातिब प्रियंका गांधी ने कहा कि वह मुझसे बहुत प्यार करती थीं। जब भी मिलते थे वह प्यार से गले लगाती थीं। उनका जाना मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है। वैसे वह बड़ी नेता थीं उनका निधन कांग्रेस और देश की राजनीति के लिए बड़ी क्षति है। खास तौर पर दिल्ली के लिए। दिल्ली के विकास में उनका बहुत बड़ा योगदान है।

बता दें कि शीला दीक्षित का बनारस से भी काफी लगाव रहा। वह कई बार यहां आईं। खास तौर पर चुनाव के मौके पर वह बनारस जरूर आती थीं। 2017 विधानसभा चुनाव से पहले जब उन्हें सीएम का चेहरा प्रोजेक्ट किया गया था तब वह बनारस आई थीं और यहां के बारे में पुराने लोगों से मिल कर एक-एक जानकारी हासिल की थी। तब यह चर्चा भी चली कि वह बनारस शहर दक्षिणी से पार्टी की प्रत्याशी होंगी। लेकिन बाद में कांग्रेस ने रणनीति बदली और समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन हो गया। लेकिन पक्के महाल से उन्हें काफी लगाव रहा। यही वजह थी कि वह जब भी आतीं उनकी एक सभा चौक थाने के पास जरूर होती थी।
2017 विधानसभा चुनाव के दौरान वह जब बनारस आईं थीं तो संकट मोचन मंदिर के महंत और संकटमोचन फाउंडेशन के चेयरमैन से मिलीं तथा गंगा की दुर्दशा पर विस्तार से चर्चा की थी। वह गंगा की दुर्दशा देख-सुन कर काफी द्रवित हुई थीं।