स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Shardiya Navratri 2019: शारदीय नवरात्रि 29 सितम्बर से शुरू , जानिए कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

Sarweshwari Mishra

Publish: Sep 22, 2019 12:17 PM | Updated: Sep 22, 2019 12:17 PM

Varanasi

घट स्थापना के लिए कलश, धूप, दीप, मौली, कपूर, नैवेद्य, माता की मूर्ति या तस्वीर, गाय का घी, शहद, शक्कर, लाल चुनरी, फल आदि की व्यवस्था करनी होती है

वाराणसी. नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इस बार यह नवरात्रि की शुरूआत 29 सितम्बर से हो रही है। पहले दिन यानी 29 सितम्बर को विधि विधान से घट कलश की स्थापना की जाएगी। उसके बाद नवरात्रि के व्रत की शुरूआत हो जाएगी। इन नौ दिनों में माता के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। इस बार विजयादशमी 08 अक्टूबर को है । नवरात्रि के व्रत और पूजा के लिए विशेष तैयारियां करनी होती हैं। घट स्थापना के लिए कलश, धूप, दीप, मौली, कपूर, नैवेद्य, माता की मूर्ति या तस्वीर, गाय का घी, शहद, शक्कर, लाल चुनरी, फल आदि की व्यवस्था करनी होती है।


घट स्थापना का शुभ मुहूर्त
इस बार नवरात्रि पर कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 16 मिनट से लेकर 7 बजकर 40 मिनट तक है। इसके अलावा आप दिन में भी कलश स्थापना कर सकते हैं। जिसके लिए शुभ मुहूर्त 11 बजकर 48 मिनट से लेकर 12 बजकर 35 मिनट तक है।

शारदीय नवरात्रि 2019 जानिए किस दिन मां के किस स्वररूप की होगी पूजा
प्रथम दिन 29 सितम्बर को माता दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा होगी
2. 30 सितंबर- द्वितीया - दूसरा दिन। इस दिन माता के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा की जाती है।
3. 1 अक्टूबर- तृतीया - तीसरा दिन। इस दिन दुर्गा जी के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा की जाएगी।
4. 2 अक्टूबर- चतुर्थी - चौथा दिन। माता दुर्गा के कुष्मांडा स्वरुप की पूजा-अर्चना होगी।
5. 3 अक्टूबर- पंचमी - पांचवां दिन- इस दिन मां भगवती के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है।
6. 4 अक्टूबर- षष्ठी- छठा दिन- इस दिन माता दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा होती है।
7. 5 अक्टूबर- सप्तमी- सातवां दिन- इस दिन माता दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की आराधना की जाती है।
8. 6 अक्टूबर- अष्टमी - आठवां दिन- दुर्गा अष्टमी, नवमी पूजन। इस दिन माता दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है।
9. 7 अक्टूबर- नवमी - नौवां दिन- नवमी हवन, नवरात्रि पारण।
10. 8 अक्टूबर- दशमी- जिन लोगों ने माता दुर्गा की प्रतिमाओं की स्थापना की होगी, वे विधि विधान से माता का विसर्जन करेंगे। इस दिन विजयादशमी या दशहरा मनाया जाएगा।