स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी- रूस के कलाकार बनारस के इस मंदिर में पेश करेंगे भजन

Ajay Chaturvedi

Publish: Aug 22, 2019 13:29 PM | Updated: Aug 22, 2019 13:29 PM

Varanasi

-वाराणसी में मुंबई की तर्ज पर बनेगा भव्य श्री कृष्ण का मंदिर
-बच्चों को हताशा से मुक्ति के लिए दिया जाएगा गीता का ज्ञान
-भव्य मंदिर में होगा विशाल सेमिनार हॉल

वाराणसी. धर्म नगरी काशी में इस बार श्री कृष्ण जन्माष्टमी कुछ खास होगी। यानी विशेष तरह के मनाई जाएगी। तीन दिवसीय कार्यक्रम में विदेशों के कलाकार भी आ रहे हैं। खास तौर पर रूस के कलाकार यहां श्री कृष्ण से संबंधित भजन-कीर्तन की प्रस्तुति देंगे। यह पहला मौका होगा जब श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विदेशी कलाकार भगवान कृष्ण के भजनों से यहां के रसिकों को आकर्षित करेंगे। भजन के अलावा विविध सांस्कृतिक आयोजनों की प्रस्तुति भी होगी। यह सब होगा इस्कॉन मंदिर में। यह जानकारी दी इस्कॉन मंदिर कमेटी के चेयरमैन दीपक मधोक ने।

मधोक ने बताया कि अतंर्राष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ के तत्वाधान में इस बार भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव भव्य रूप में मनाया जाएगा। तीन दिनों तक विविध आयोजन होंगे। गुरुधाम स्थित इस्कॉन मंदिर परिसर में 23 अगस्त शुक्रवार की शाम से शुरू हो जाएंगे विविध कार्यक्रम। इसके तहत सायं 6 से 7:30 बजे तक आरती कीर्तन व भजन होगा। 7:30 से 8:30 बजे तक युवाओं के लिए जागृति कार्यक्रम आयोजित होंगे। 24 अगस्त शनिवार को 3 से 4 बजे बच्चों की झांकी सजाई जाएगी। सायं 4 से 7 बजे तक श्री कृष्ण भजन-गायन प्रतियोगिता होगी। सायं 7 से रात्रि 10 बजे तक कृष्णा नृत्य प्रतियोगिता, रात्रि 10 से 11 बजे तक श्री कृष्णा कथा प्रवचन, रात्रि 11 बजे 12 बजे तक कलश महाभिषेक। रात्रि 12 से 12:30 तक भोगर्पण व महाआरती होगी। 25 अगस्त रविवार को श्री प्रभुपाद अभिर्भाव तिथि सुबह 10 से 12 बजे प्रभुपाद यशोगान पुष्पांजलि व महाभिषेक, मध्याह्न 1 से 2 बजे तक भोगार्पण आरती एवं प्रभुपाद कथा, 2 बजे से महाप्रसाद वितरण होगा।

मीडिया से मुखातिब  इस्कॉन मंदिर कमेटी के चेयरमैन दीपक मधोक

मीडिया से मुखातिब दीपक मधोक व इस्कॉन मंदिर के अध्यक्ष कृष्णार्चन दास ने बताया कि "काशी में दिल्ली व मुम्बई की तर्ज पर श्रीकृष्ण जी के भव्य इस्कॉन मंदिर का निर्माण होगा। यह मंदिर इसी जगह बनेगा। इस मंदिर की खास विशेषता होगी लोगों को अवसाद से बाहर निकालना। इसमें भी स्कूल गोइंग बच्चे जो लगातार किन्हीं कारणों से डिप्रेस हो रहे हैं, उन्हें गीता ज्ञान दिया जाएगा। नृत्य संगीत के कार्यक्रम होंगे। वर्षपर्यंत नेशनल, इंटरनेशनल कांफ्रेंस होगी। इसके लिए मंदिर के भूतल पर विशाल वातानुकूलित सेमीनार रूम होगा जिसमें 3000 लोग एक साथ बैठ पाएंगे। मंदिर निर्माण की रूपरेखा तैयारी कर ली गई है। निर्माण प्रक्रिया भी जल्द ही शुरू हो जाएगी। बताया कि भगवान श्री कृष्ण का मंदिर प्रथम तल पर होगा।