स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बनारस में गंगा खतरे के निशान के करीब, बढीं दुश्वारियां

Ajay Chaturvedi

Publish: Aug 19, 2019 15:54 PM | Updated: Aug 19, 2019 15:54 PM

Varanasi

तटवर्ती इलाकों में रहने वालों में दहशत
महाश्मशान पर दूसरे तल पर जल रहे शव
गंगा आरती का स्थान बदला
सोमवार सुबह 8 बजे 68.66 मीटर तक पहुंचा गंगा का जलस्तर
चेतावनी बिंदु 70.26 मीटर से 1.6 मीटर हैं नीचे
खतरे का निशान है 71.26 मीटर

वाराणसी. धर्म नगरी काशी में गंगा के जल स्तर में तेजी से हो रही बढोत्तरी ने लोगो की चिंताएं बढा दी हैं। बताया जा रहा है कि दो दिन में ही लगभग तीन मीटर तक बढ गया है गंगा का जलस्तर। अब तो गंगा महज डेढ मीटर ही नीचे रह गई हैं खतरे के निशान से।

 

गंगा के जलस्तर में तेजी से हो रही वृद्धि के चलते गंगा आरती का स्थान बदल दिया गया है। अब गंगा सेवा निधि के कार्यालय की छत पर आरती होने लगी है रविवार से। यही नहीं शीतला घाट पर स्थित मां शीतला के मंदिर में भी गंगा का जलस्तर पहुंच गया है। उधर सबसे ज्यादा दिक्कत शव यात्रियों को हो रही है। भूतल पर शवदाह के लिए कोई स्थान नहीं बचा है ऐसे में प्रथम तल पर शव जलाए जा रहे हैं। घाट पर शवयात्रियों की लंबी लाइन लग रही है। सभी को अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है क्योंकि प्रथम तल पर शवदाह के लिए बने प्लेटफार्म की संख्या सीमित है। सर्वाधित दिक्कत तो यह कि शवों को रखने के लिए भी जगह नहीं बचा है। चारों तरफ सिर्फ जल ही जल नजर आ रहा है।

गंगा में डूबा मंदिर

गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्र ने बताया कि मां गंगा का तेजी से बढ़ते जलस्तर के कारण दशाश्वमेध घाट पर होने वाली मां गंगा की दैनिक आरती का स्थान एक बार पुनः बदल कर गंगा सेवा निधि कार्यालय की छत पर किया गया है। जैसे जैसे गंगा का जलस्तर बढ़ रहा है उसी प्रकार मां गंगा की आरती का स्थान बदल रहा है। पांचवी बार स्थान बदला गया है। पर अब मां गंगा का जलस्तर काफी बढ़ गया है जिससे बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है जिसे देखते हुए संस्था ने ये निर्णय किया कि मां गंगा की आरती छत सम्पन कराई जाएगी।

 

मणिकर्णिका घाट

केंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान में वाराणसी में गंगा का जलस्तर 68.66 मीटर तक पहुंच गया है। बता दें कि रविवार की सुबह 8 बजे गंगा का जलस्तर 66.72 मीटर था जो रात 10 बजे बढ कर 68.10 मीटर हो गया। इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि गंगा के जलस्तर में कितनी तेजी से वृद्धि हो रही है। जल आयोग के अनुसार गंगा में बढाव का क्रम जारी है।

गंगा आरती गंगा सेवानिधि कार्यालय के छत पर

बता दें कि बनारस में गंगा के जलस्तर का चेतावनी बिंदु 70.26 मीटर और खतरे का निशान 71.26 मीटर है जबकि उच्चतम बाढ बिंदु 73.90 मीटर है।
गंगा में बढ़ाव के कारण वरुणा के जलस्तर में भी तेजी से वृद्धि हो रही है। इससे तटीय इलाकों में रहने वालों की धड़कनें तेज हो गई हैं।