स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

PM मोदी के क्षेत्र के मनरेगा मजदूरों का आरोप, मजदूरी के साल भर बाद भी नही मिली मजदूरी

Ajay Chaturvedi

Publish: Oct 22, 2019 15:06 PM | Updated: Oct 22, 2019 15:06 PM

Varanasi

-मनरेगा मजदूरों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन
-कोटेदारों पर यूनिट बढाने के नाम पर वसूली का आरोप

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र के मनरेगा मजदूरों ने गंभीर आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि मजदूरी के एक साल बाद भी उन्हें मजदूरी नहीं मिली। यही नहीं उन्होंने कोटेदारों पर भी गंभीर आरोप लगाया है कहा है कि नए सिरे से बने राशन कार्ड में कई परिवारों के कई सदस्यों के नाम नहीं जोड़े गए। अब नाम जुड़वाने के नाम पर वसूली की जा रही है। इन मुद्दों को लेकर मजदूरों ने मंगलवार को राजातालाब तहसील व आराजी लाइन ब्लॉक मुख्यालय और राजा पर धरना दिया और एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर महिला मजदूरों की तादाद कहीं ज्यादा रही।

मनरेगा मजदूरों का प्रदर्शन

राजातालाब और रोहनियां के मनरेगा संघर्ष मोर्चा के इस आंदोलन के तहत मजदूरो ने राशन कार्ड बनानेके नाम पर बड़े पैमाने पर धाधली का आरोप लगाते हुए पहले आराजी लाइन ब्लॉक मुख्यालय पर धावा बोला फिर वो पहुंच गए तहसील मुख्यालय। इस अवसर पर दीनदासपुर के मनरेगा मजदूरों ने काम की मांग का आवेदन भी किया। कहा कि बकाया मजदूरी का भुगतान न होने और काम न मिलने से वो भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं।

ब्लाक पर ज्ञापन सौंपने के बाद सभी मनरेगा मजदूर तहसील पर पहुंचे और वहां पहुंचकर राशन कार्ड बनाने में हो रही धांधली तथा छूटे हुए यूनिट को बढ़ाने के नाम पर कोटेदारों द्वारा किये जा रहे मोल भाव के खिलाफ उपजिलाधिकारी राजातालाब को ज्ञापन सौंपा ।

मनरेगा मजदूरों का प्रदर्शन
IMAGE CREDIT: patrika

मनरेगा मजदूर यूनियन के संयोजक सुरेश राठौर ने कहा कि मनरेगा मजदूरों के काम ख़त्म करने के एक वर्ष बाद भी मजदूरी का भुगतान न होना सीधे सीधे मनरेगा कानून का उलंघन है। उन्होंने मांग की कि सभी मनरेगा मजदूरों का राशन कार्ड बनाना सुनिश्चित किया जाय क्योंकि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत सभी मजदूर वर्ग के लोगों का राशन कार्ड बनाना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि राशन कार्ड में जिन परिवारों की यूनिट छूट गया है उनको राशन कार्ड में जोड़ने के नाम पर कोटेदारों द्वारा मोलभाव किया जा रहा है जो कि कानून का सरासर उलंघन है।

पूर्वांचल किसान यूनियन के अध्यक्ष योगिराज पटेल ने कहा कि बार बार राशन कार्ड बदलने,छूटे हुए यूनिट को जोड़ने के एवज में कोटेदारों द्वारा पैसे की मांग की जा रही है जो कानून के खिलाफ है। उन्होंने उपजिलाधिकारी राजातालाब से मांग की कि जो कोटेदार मजदूरों से पैसे की मांग कर रहे है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाय।

ये रहे शामिल

धरना प्रदर्शन में महेंद्र, रेनू, श्रद्धा, मानसी, कमला, चन्दा, शीला, बिंदु, किरण, उर्मिला, प्रेमशीला, पार्वती, कलावती, निर्मला, प्रभु, गणेश, ओमप्रकाश, अजय, अजीत, विवेक, दिनेश, सीमा, गीता, प्रभा, दुर्गावती, सरोजा, निर्मला, सुशीला, दुलारी, गुड्डी, मंगरा, आशा, राधिका सहित सैकड़ों मजदूर शामिल हुए।