स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Karwa Chauth 2019: इस बार 17 अक्टूबर को है करवा चौथ व्रत, जानिए क्या चंद्रोदय का समय

Sarweshwari Mishra

Publish: Sep 16, 2019 17:26 PM | Updated: Sep 16, 2019 17:26 PM

Varanasi

जानिए क्या है करवा चौथ का पूजन विधि

वाराणसी. हर महिला को करवा चौथ का बेसब्री से इंतजार रहता है। हर महिला अपने पति की लम्बी उम्र के लिए प्रार्थना करती है। इस बार करवाचौथ 17 अक्टूबर को है। हिंदू मान्यता के अनुसार करवा चौथ महज एक व्रत नहीं है, यह पति-पत्नी के रिश्ते का जश्न है। उसकी मर्यादा और स्नेह के अनोखे संतुलन का एक खूबसूरत त्यौहार है।

शुभ मुहूर्त
करवा चौथ पूजा मुहूर्त: शाम 5:50 बजे से 6:58 बजे तक
करवा चौथ चंद्रोदय समय: रात 8:15

करवा चौथ पूजन विधि
– सुबह-सुबह उठकर स्नान आदि करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें और व्रत का संकल्प लें।
– संकल्प लेने के लिए इस मंत्र का जाप करें
‘‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये कर्क चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये’
– घर के मंदिर की दीवार पर गेरू से फलक बनाएं और चावल को पीसकर उससे करवा का चित्र बनाएं। इस रीति को करवा धरना कहा जाता है।
– शाम को मां पार्वती और शिव की कोई ऐसी फोटो लकड़ी के आसन पर रखें, जिसमें भगवान गणेश मां पार्वती की गोद में बैठे हों।
– कोरे करवा में जल भरकर करवा चौथ व्रत कथा सुनें या पढ़ें।
– मां पार्वती को श्रृंगार सामग्री चढ़ाएं या उनका श्रृंगार करें. इसके बाद मां पार्वती भगवान गणेश और शिव की अराधना करें।
– चंद्रोदय के बाद चांद की पूजा करें और अर्घ्य दें।
– इसके बाद पति के हाथ से पानी पीकर या निवाला खाकर अपना व्रत खोलें. पूजन के बाद अपने सास-ससूर और घर के बड़ों का आर्शीवाद जरूर लें।