स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लोगों के घरों में घुसा गंगा व वरुणा का पानी, वार्निंग लेवल पार करने के बाद भी जलस्तर में वृद्धि जारी

Devesh Singh

Publish: Sep 16, 2019 13:23 PM | Updated: Sep 16, 2019 13:23 PM

Varanasi

मध्यप्रदेश से छोड़े जा रहे पानी से स्थिति बिगड़ी, जलस्तर में और होगी बढ़ोतरी

वारणसी. मध्य प्रदेश से लगातार छोड़े जा रहे पानी से गंगा व वरुणा में उफान आ गया है। गंगा का जलस्तर पहले ही वार्निंग लेवल को पार कर चुका है। दोनों नादियों का पानी लोगों के घरों में घुस चुका है जिसके चलते निचले इलाकों में रहने वालों का पलायन शुरू हो चुका है। केन्द्रीय जल आयोग के अनुसार सोमवार की दोपहर को गंगा का जलस्तर 70.68 मीटर दर्ज किया गया था जबकि बनारस में वार्निंग लेवल 70.26 मीटर है जबकि 1978 में सबसे अधिक जलस्तर 72.20 मीटर दर्ज किया गया था। जलस्तर में प्रति घंटा एक सेंटीमीटर की दर से बढ़ोतरी हो रही है इस बार गंगा का जलस्तर नया रिकॉर्ड बनाने पर आमादा है।
यह भी पढ़े:-इसी तरह बढ़ती रही गंगा तो जल्द वार्निंग लेवल पार कर जायेगा जलस्तर

मध्य प्रदेश में हो रही झमाझम बारिश से वहां के डैम लगातार खोले जा रहे हैं और वहां का पानी विभिन्न नदियों से होते हुए गंगा व वरुणा में पहुंच रहा है। इसके चलते गंगा नदी का पानी इस सीजन में सबसे अधिक ऊंचाई पर पहुंच गया है। इस साल पहली बार वार्निंग लेवल के उपर गंगा बह रही है जिससे सभी घाटों का सम्पर्क टूट गया है। मणिकर्णिका व हरिश्चन्द्र घाट पर शवदाह करने आने वालों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। गंगा व वरुणा का पानी निचले इलाकों में रहने वालों के घरों में घुस चुका है। इससे लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। चौकाघाट, ढेलवरिया, सामनेघाट, मारुति नगर,खालिसपुर आदि जगहों में बाढ़ का पानी पहुंचने से वहां पर लोगों का पलायन शुरू हो चुका है।
यह भी पढ़े:-इस मंदिर में हर संकट से मिलती है मुक्ति, पांडवों ने एक पैर पर खड़े होकर की थी मां की उपासना

जलस्तर में बढ़ाव रहेगा जारी, एमपी से लगातार छोड़ा जा रहा पानी
मध्य प्रदेश में भारी बारिश के चलते वहां के ज्यादातर बांध भर चुके हैं और लगातार बांध से पानी छोड़ा जा रहा है। केन नदी पर स्थित बरियारपुर बांध से डेढ़ लाख क्यूसेक, बेतवा नदी स्थित माताटीला बांध से साढ़े चार लाल क्यूसेक पानी छोड़ा गया है जिसका असर दिखायी पडऩे लगा है। इसी तरह कानपुर और हरिद्वार के बैराज व नरौरा बांध से तीन लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है जिसका असर भी गंगा व वरुणा पर पड़ेगा और जलस्तर में और वृद्धि होगी।
यह भी पढ़े:-पुलिसकर्मियों के शराब व पशु तस्करी कराने पर डीजीपी ने दिखायी सख्ती, मांगी रिपोर्ट

जिला प्रशासन ने कसी कमर, फिर भी लोगों को नहीं मिल रही राहत साम्रगी
पिछले माह ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने खुद बोट से गंगा के बढ़े हुए जलस्तर को देखा था और प्रभावितों को राहत साम्रगी बांटी थी। जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह ने पहले ही अधिकारियों को बाढ़ को लेकर किसी तरह की लापरवाही नहीं बरतने का निर्देश दिया था इसके बाद भी लोगों तक राहत साम्रगी नहीं पहुंच रही है। पहले आयी बाढ़ के बाद जो नाव लगायी गयी थी गंगा का जलस्तर कम होने पर उसे हटा दिया गया था इसके बाद फिर से नाव की समुचित व्यवस्था नहीं की गयी है जिससे भी बाढ़ प्रभावितों की परेशानी बढ़ गयी है।
यह भी पढ़े:-पीएम नरेन्द्र मोदी के लिए बजरंग बली को चढ़ायेंगे डेढ़ किलो का स्वर्ण मुकुट, वजह जानकर रह जायेंगे हैरान