स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ बैंक कर्मचारी हड़ताल पर, करोड़ों का कारोबार प्रभावित

Ajay Chaturvedi

Publish: Oct 22, 2019 17:11 PM | Updated: Oct 22, 2019 17:11 PM

Varanasi

-बैंक कर्मचारी नेताओं ने कहा, बैंकों का विलयन उचित नहीं
- बताया, उपभोक्ता होंगे परेशान
-कर्मचारियों का होगा उत्पीड़न

 

वाराणसी. बैंकों के विलय संबंधी केंद्र सरकार के निर्णय के खिलाफ बैंक कर्मचारी मंगलवार को हड़ताल पर रहे। इससे लेन-देन का काम प्रभावित हुआ। ज्योति पर्व दीपावली के ठीक पहले बैंकों की हड़ताल के चलते ग्राहकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस एक दिन की हड़ताल के चलते सिर्फ बनारस में एक हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार ठप रहा।

बैंक कर्मचारियों का कहना है कि सरकार कह रही कि बैंक के विलय से वित्तीय संस्थान मजबूत होंगे। लेकिन हकीकत यह है कि पूर्व में हुए बैंकों के विलय नजीर हैं। बैंक विलय के निर्णय जमीन पर उतर नहीं सके हैं। अब 10 बैंकों के विलय से बड़ी संख्या में शाखाएं बंद होंगी। कर्मचारियों के मनमाना स्थानांतरण किए जाएंगे। उन्होंने ग्राहकों की समस्या पर भी फोकस किया। कहा, ग्राहकों से कई तरह के चार्ज वसूले जा रहे हैं। सुविधाओं में बढ़ोत्तरी नहीं की जा रही है।

उन्होंने यह भी दावा किया अधिकारी संवर्ग का भी हमें समर्थन प्राप्त है। आरोप लगाया कि केंद्र सरकार पूंजीपतियों को बचाने के उद्देश्य से बैंकों का विलय कर रही है। हालांकि, अधिकारी वर्ग समर्थन के बारे में खुले तौर पर बोलने से जरूर बचते रहे।

पूर्व घोषणा के तहत इलाहाबाद बैंक स्टाफ एसोसिएशन समेत कई बैंकों के कर्मचारी सुबह ही सड़क पर उतर आए। नदेसर स्थित बैंक के मंडलीय कार्यालय के सामने दर्जनों की संख्या में कर्मचारी जुट गए। उसके बाद आंदोलनकारी बैंकों शाखाओं में पहुंचे जहां, ताले खुले रहे लेकिन बैंकिंग कार्य नहीं हो रहा था, बावजूद इसके उन्होंने बैंकों को बंद कराया। कई जगह आंदोलकानियों के पहुंचने पर ताला लटक गया।
इलाहाबाद बैंक स्टाफ एसोसिएशन के उपसचिव शीतला दुबे ने बताया कि आंदोलन में बैंकिंग इम्पलाई फेडरेशन आफ इंडिया, आल इंडिया बैंक इम्प्लाइज एसोसिएशन, बैंक इम्प्लाइज फेडरेशन एसोसिएशन ऑफ इंडिया का समर्थन है। उन्होंने कहा कि बैंकों का विलय उचित निर्णय नहीं है।

आंदोलन में प्रदीप द्विवेदी, अमिताभ श्रीवास्तव, अनिल मिश्रा, संयम राय समेत बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे।