स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कुल्हाड़ी से हत्या कर नदी में बहा दिया था शव, पकड़े गए आरोपी

Ramashankar mishra

Publish: Jul 18, 2019 11:48 AM | Updated: Jul 18, 2019 11:48 AM

Umaria

ब्लाइंड मर्डर की 11 माह बाद सुलझी गुत्थी ,भाईयो ने मिलकर दिया था वारदात को अंजाम

बिरसिंहपुर पाली. लगभग एक वर्ष पूर्व सोहागपुर निवासी संजीव गौतम उर्फ संजू की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत की गुत्थी पाली पुलिस ने सुलझा ली है। मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिन्होने पूंछतांछ के दौरान संजीव की हत्या कर शव सोन नदी में बहाने की बात स्वीकार कर ली है। उल्लेखनीय है संजीव गौतम का शव मिलने के बाद परिजनो द्वारा हत्या की आशंका जताई गई थी। मामले में इसकी रिपोर्ट पाली थाना में दर्ज कराई गई थी। जिसके बाद किसी भी प्रकार की कार्रवाई न होने पर मामले में वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत की गई थी। मामला अतिसंदेवनशील था। जिसे ध्यान में रखते हुए घटना के लगभग ११ माह बाद पुलिस को इस ब्लांइड मर्डर की गुत्थी सुलझाने में सफलता हाथ लगी है। इस संंबंध में पत्रकारों से चर्चा करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रेखा सिंह ने बताया कि हत्या में शामिल दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जिनसे पूंछतांछ की गई तो आरोपियों ने हत्या की बात स्वीकार कर ली है।
क्या था मामला
जानकारी के अनुसार 5 सितंबर 2018 को फरियादी अनुपम गौतम ने पाली थाना में इस आशय की शिकायत दर्ज कराई थी कि उसका भाई संजीव गौतम उर्फ संजू पिता सिद्धेश गौतम 44 वर्ष निवासी सोहागपुर शहडोल के ग्राम पैली से सोहागपुर के लिए निकला था, किंतु वापस नही आया। जिस पर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर सतत जांच की गई। जिसमें पाया गया कि हीरा लाल यादव पिता मुन्ना यादव 26 साल तथा उसके चचेरे भाई लालमन यादव पिता बाबोल यादव दोनों निवासी ग्राम पैली का संजू गौतम से जमीनी विवाद के चलते रंजिश रखते थे। दोनों से पाली पुलिस ने कड़ाई से पूछतांछ की तो आरोपियों ने पैली से चौरी जाने के रास्ते मे सिद्ध बाबा के पास कुल्हाड़ी एवं डंडे से संजू गौतम की हत्या करना व शव को सोन नदी में बहा देना स्वीकार किया। जिनके कब्जे से हत्या में प्रयुक्त कुल्हाड़ी, डंडा, एवं घटना दिनांक को पहने हुए कपड़े जब्त कर लिए गए हैं।