स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस मार्ग पर सफर करना मतलब वाहन और शरीर को नुकसान पहुंचाना

Mukesh Malavat

Publish: Aug 19, 2019 08:02 AM | Updated: Aug 19, 2019 00:24 AM

Ujjain

बारिश ने बिगाड़ी इंदौर-कोटा राजमार्ग की हालत

सोयतकलां. आइए, आज हम आपको ऐसी सडक़ के बारे में बता रहे हैं जो राजस्थान से मध्य प्रदेश में प्रवेश के लिए एक बेहतरीन सडक़ हुआ करती थी ..? लेकिन इस बारिश मे इस राजमार्ग की ऐसी दुर्गति हो गई है कि अब इस सडक़ पर चलना मतलब समय, शरीर और गाड़ी को नुकसान पहुंचाना है यह कहना है वाहन चालकों का और यह सडक़ है इंदौर कोटा राजमार्ग क्रमांक 27 जो कि अब नेशनल हाइवे को हैंडअवर की जा चुकी है। इस रोड की दशा बेहद खराब हो चुकी है और वाहन चालक परेशान हो रहे हैं। मार्ग पर इतने बड़े-बड़े गड्ढे हैं कि पूरी कार समा जाए। जब पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट तैयार करने के लिए सोयत से लेकर गुराड़ी बंगला 15 किलोमीटर तक सर्वे किया और वाहन चालकों से बातचीत की तो चालकों ने कहा कि भैया इस सडक़ पर मुरम तो डलवा दो जिससे जन हानि नहीं होगी व वाहनों को ज्यादा नुकसान भी नहीं होगा। बड़े-बड़े गड्ढों के कारण वाहन इतने हिचकोले लेते हैं कि कहीं वाहन पलटी खा जाए।
मुरम तो डलवा दो
जब पत्रिका संवाददाता ग्राउंड रिपोर्ट तैयार करने के लिए मार्ग पर निकले तो दुकानदारों ने व वाहन चालकों ने एक ही मांग रखी कि राजमार्ग के जिम्मेदार अधिकारी बारिश में कम-से-कम मुरम डलवा दें जिससे कि बड़े हादसे नहीं होंगे और वाहनों को नुकसान भी कम होगा।
आधी से भी कम रह गई वाहनों की संख्या
परिवहन अधिकारी चेक पोस्ट डोगरगांव से जब मार्ग पर बारिश के पहले चलने वाले वाहनों की संख्या का आंकड़ा निकालना चाहा तो उन्होंने बताया कि बारिश में इस मार्ग पर वाहनों की संख्या बारिश से पहले की अपेक्षा मात्र आधी से भी कम रह गई है ।
राहगीर व दुकानदार परेशान
नगर से होकर गुजरने वाली इंदौर कोटा राजमार्ग पर हो रहे बड़े-बड़े गड्ढे वाहन चालकों के लिए सिरदर्द बने हुए हैं जिसके चलते राजमार्ग से गुजरने वाले वाहन चालकों के साथ साथ राहगीर, दुकानदारों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिम्मेदार इस ओर ध्यान नहीं दे। बारिश के दौरान इन गड्ढों में पानी भर जाता है जो हादसों का कारण बनता है । ऐसी हालत राजमार्ग पर सोयतकलां नगर व समीपस्थ कल्याणपुरा के पास, गुराड़ी बंगला, साल्याखेडी, पुराना पेट्रोल पंप के आगे थाने तक तो यह स्थिति है कि सडक़ ही नहीं बची है गड्ढे ही गड्ढे हो चुके हैं। सोयत से गुराडी बंगला तक 15 किलोमीटर राजमार्ग मे हजारों छोटे व बड़े-बड़े गड्ढें हो चुके हैं।
मध्यप्रदेश सडक़ विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को इंदौर कोटा राजमार्ग पर पैचवर्क करने के लिए बोला है उन्होंने बारिश रुकने के बाद गड्ढों में मुरम डालने की बात कही है । जल्दी ही कलेक्टर के समक्ष बात रखकर मार्ग को दुरुस्त करवाने के लिए निर्देशित किया जाएगा ।
- मनीष जैन, अनुविभागीय अधिकारी, सुसनेर