स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नवरात्र के लिए तैयार हो रहा बाजार, बुक होने लगे रंगबिरंगे परिधान

Lalit Saxena

Publish: Sep 21, 2019 07:10 AM | Updated: Sep 20, 2019 21:46 PM

Ujjain

Ujjain News: पर्व के लिए बाजार भी तैयार हो रहे हैं। देवी की स्थापना के साथ ही शहर के चौराहों और मंदिरों में गरबों की धूम शुरू होगी।

उज्जैन. नवरात्र की शुरुआत 29 सितंबर से होने जा रही है। इसके लिए जहां शहर के विभिन्न देवी मंदिरों में साफ-सफाई, रंगाई-पुताई आदि कार्य किए जा रहे हैं, वहीं पर्व के लिए बाजार भी तैयार हो रहे हैं। देवी की स्थापना के साथ ही शहर के चौराहों और मंदिरों में गरबों की धूम शुरू होगी। गरबों में सबसे अलग हटकर नजर आने के लिए नई-नई डिजाइन और वैरायटियों के साथ परिधान उपलब्ध हैं।

सती गेट गणेश मंदिर के समीप स्थित सुंदरम ड्रेस मैटेरियल संचालक सोहन परमार ने बताया कि बच्चों के लिए गरबा ड्रेस विशेष तौर पर इंदौर और अहमदाबाद से मंगाई है। वहीं युवतियों के लिए लहंगा-चुन्नी ७५० से ९५० रुपए तक उपलब्ध है। बच्चों की ड्रेस ३५० से शुरू होकर ५०० रुपए तक मिल रही है। वहीं महिलाओं के लिए फ्री साइज ड्रेस १५०० रुपए में उपलब्ध है।

रंगीन डांडिए और अन्य सजावटी सामान भी

छोटा सराफा बाजार में रंगीन डांडिए और अन्य सजावटी सामान की दुकानों पर अभी से बुकिंग होना शुरू हो गई है। रोहित माहेश्वरी ने बताया कि बच्चों और युवतियों की गरबा डे्रस बुकिंग ऑर्डर मिल गए हैं। पंडालों में सजाने के लिए कई तरह के आयटम भी डिमांड पर मंगाए जाते हैं।

जगमगाएंगे मां हरसिद्धि मंदिर में दीपस्तंभ
हरसिद्धि मंदिर प्रांगण में लगे दो दीप स्तंभों में कुल 11 सौ 11 दीप हैं। दो डिब्बा तेल से ढाई घंटे की मेहनत के बाद ये दीप प्रज्वलित किए जाते हैं। संध्या आरती शुरू होने के साथ मात्र 10 मिनट में इन्हें प्रज्जवलित कर दिया जाता है। कहते हैं कि मां के दरबार में जो भी भक्त मनोकामना करता है, वो पूर्ण होने पर इन्हें प्रज्वलित करने यहां पहुंचता है। नवरात्रि में दीपमालिकाओं के प्रज्वलन के लिए एंडवांस बुकिंग होती है। दीप प्रज्वलित करने में लगभग 7000 रुपए तक खर्चा आता है।

हरसिद्धि माता को भेंट की सोने की नथ व अन्य आभूषण
हरसिद्धि माता मंदिर में पिछले दिनों पुणे के एक भक्त डॉ. सागर कोल्ते द्वारा सोने की रत्न जडि़त 3 अलग-अलग वजन वाली नथ, मंगलसूत्र व स्वर्ण त्रिपुंड भेंट किया गया।