स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महाकाल सवारी में शामिल हुए सीएम कमलनाथ, बोले...आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी और लोगों को रोजगार मिलेगा

Lalit Saxena

Publish: Aug 19, 2019 18:49 PM | Updated: Aug 19, 2019 18:49 PM

Ujjain

भगवान महाकालेश्वर की पांचवी सवारी धूमधाम से निकली, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया पूजन

उज्जैन. भगवान महाकालेश्वर की पांचवीं सवारी सोमवार को धूमधाम से निकली। सवारी निकलने के पूर्व सभामंडप में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूजन-अर्चन किया एवं सवारी को कंधा देकर आगे बढ़ाया। मुख्यमंत्री के साथ जिले के प्रभारी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा, खेल युवा कल्याण एवं उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी भी पूजन-अर्चन में शामिल हुए।


पूजन-अर्चन पुजारी घनश्याम शर्मा ने कराया। इस अवसर पर विधायक रामलाल मालवीय, दिलीप गुर्जर, महेश परमार, मुरली मोरवाल, पूर्व विधायक राजेन्द्र भारती, पूर्व मंत्री बाबूलाल मालवीय, जिला पंचायत अध्यक्ष करण कुमारिया, मनोज राजानी, कमल पटेल, अशोक भाटी, राजेन्द्र वशिष्ठ, विवेक गुप्ता, रवि भदोरिया, रवि शुक्ला, संभागायुक्त अजीत कुमार, आईजी राकेश गुप्ता, डीआईजी अनिल शर्मा, कलेक्टर शशांक मिश्र एवं एसपी सचिन अतुलकर मौजूद थे।

 

patrika

महाकाल की नगरी को विकास आकांक्षा थी
मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि भगवान महाकाल की नगरी का समग्र विकास करना उनकी बहुत पुरानी आकांक्षा थी। राज्य सरकार ने महाकाल के संपूर्ण परिसर के विकास और श्रद्धालुओं की सुविधा की दृष्टि से अन्य व्यवस्थाओं के लिए 300 करोड़ रुपए की योजना बनाई है। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश की पहचान भगवनान महाकाल की नगरी उज्जैन से है। यह एक महान और दिव्य स्थान है। यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए उनके लिए आकर्षक सुविधाएं जुटाई जाएं, ताकि वे यहां पर रुकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए समयबद्ध कार्यक्रम बनाया जाएगा और इसका क्रियान्वयन समय पर हो यह सुनिश्चित किया जाएगा।

तीर्थ यात्रियों की बढ़ती संख्या को देख बनाई योजना
मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना में महाकाल के दर्शन के लिए आने वाले तीर्थ यात्रियों की बढ़ती हुई संख्या का भी विशेष ध्यान रखा गया है। इसके आधार पर ही महाकाल मंदिर परिसर का विकास और विस्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना के पूरे होने से उज्जैन के रहवासियों को भी लाभ होगा यहां की आर्थिक गतिविधियां बढेंग़ी और लोगों को रोजगार मिलेगा।