स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ALERT-: फर्जी वेबसाइट से महाकाल भस्मआरती की बुकिंग

anil mukati

Publish: Jul 20, 2019 07:00 AM | Updated: Jul 20, 2019 02:09 AM

Ujjain

खाते से राशि कटने पर भी नहीं मिली अनुमति, श्रद्धालु ने की शिकायत

उज्जैन. फर्जी वेबसाइट बनाकर भगवान महाकाल की भस्मआरती की बुकिंग का मामला सामने आया है। एक श्रद्धालु द्वारा ऑनलाइन डॉट देवम डॉट कॉम के माध्यम से बुकिंग की। उसके बैंक खाते से राशि कट गई, लेकिन अनुमति नहीं मिली। इस पर श्रद्धालु ने मंदिर प्रबंध समिति से संपर्क किया तो अधिकारियों ने मंदिर की आइटी सेल के माध्यम से वेबसाइट को खंगाला तो फर्जीवाड़ा उजागर हो गया।

महाकाल मंदिर के भस्मआरती प्रभारी मूलचंद जूनवाल ने बताया कि दुर्ग छत्तीसगढ़ निवासी श्रद्धालु राजेश ने फोन पर भस्मआरती ऑनलाइन बुकिंग से अनुमति नहीं मिलने की शिकायत मंदिर प्रबंध समिति के उपप्रशासक आशुतोष गोस्वामी से की। श्रद्धालु ने बताया कि भस्म आरती की ऑनलाइन बुकिंग पर उसके खाते से रुपए तो कट गए, लेकिन अनुमति जारी नहीं हुई है। साइट पर बुकिंग को ब्लॉक दर्शाया जा रहा है। मंदिर समिति की अधिकृत वेबसाइट के अलावा मंदिर की कोई और वेबसाइट है क्या? उपप्रशासक गोस्वामी ने श्रद्धालु को बताया कि श्रावण में केवल रविवार और सोमवार के दिन के लिए ऑनलाइन बुकिंग ब्लॉक है। शेष दिनों में तो ऑनलाइन बुकिंग हो रही है। श्रद्धालु से वेबसाइट के नाम की जानकारी ली गई तो वह मंदिर प्रबंध समिति की अधिकृत बेवसाइट से अलग ऑन लाइन डॉट देवम डॉट कॉम नाम से थी।
जूनवाल ने बताया कि मंदिर की आइटी सेल के माध्यम से लाइन डॉट देवम डॉट कॉम वेब को खंगाला गया तो कई चौकाने वाली जानकारी सामने आई। इसमें भस्मआरती, शॉपिंग कार्ड, प्रसाद के साथ अन्य शुल्क का उल्लेख था। इसके अलावा फोन नबंर ७६८७०००४३३ दर्ज है। इस पर संपर्क करने पर रिसीव नहीं किया गया। सभी तथ्य खंगालने के बाद मंदिर समिति ने फर्जी वेबसाइट को लेकर पुलिस शिकायत करने का निर्णय लिया है। जूनवाल के अनुसार इस संबंध में पुलिस अधिकारियों चर्चा के बाद पुलिस और साइबर सेल को आवेदन दिया गया है।
तीन साल पहले भी आया था मामला
जनवरी २०१६ में सर्वसिद्धि डॉट कॉम के माध्यम से महाकाल मंदिर की लड्डू प्रसादी ऑनलाइन दोगुने भाव पर बेचने का मामला सामने आया था। महाकाल मंदिर में मिलने वाला 240 रुपए का लड्डू प्रसादी का पैकेट ऑनलाइन पर 501 रुपए में बेचा जा रहा था। प्रबंध समिति की ओर से नीलगंगा थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी।