स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बच जाएगी 43 लाख यूनिट बिजली

Shailesh Vyas

Publish: Sep 11, 2019 22:47 PM | Updated: Sep 11, 2019 22:47 PM

Ujjain

इंदिरा गृह ज्योति योजना 100 यूनिट तक की खपत वाले परिवारों को मिलेगा सिर्फ 100 रुपए का बिल। उपभोक्ता योजना का लाभ लेने के लिए बिजली का अपव्यय नहीं करेंगे। इससे अकेले उज्जैन जिले में 43 लाख यूनिट बिजली बच जाएगी। उपभोक्ताओं को लाभ होगा। सरकार को भी लाभ होना तय है।

उज्जैन. इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू हो चुकी है। इसका लाभ बिजली कम खपत करने वाले परिवारों को मिलेगा। ऐसे में उपभोक्ताओं द्वारा कम राशि के लिए 100 यूनिट से कम बिजली उपयोग करने की स्थिति में जिले से में करीब 43 लाख यूनिट बिजली की बचत से सरकार को सबसे महत्वपूर्ण लाभ राजस्व का होगा।सरकार की ओर से स्थायी घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के लिए इंदिरा गृह ज्योति योजना के लाभ को विस्तारित किया गया है। अब 150 यूनिट मासिक खपत वाले प्रदेश के सभी घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को इंदिरा गृह ज्योति योजना का लाभ मिलेगा। योजना का संशोधित स्वरूप 1 सितंबर 2019 एवं इसके बाद प्रारंभ होने वाले आगामी बिलिंग चक्र से लागू होगा। पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों के एक अनुमान के अनुसार उज्जैन जिले में घरेलू बिजली उपभोक्ता की संख्या 4 लाख है और इसमें 1.75 लाख उपभोक्ता एेसे हैं, जिनकी मासिक खपत 100 से 125 यूनिट प्रति माह है। कम राशि के लिए यह उपभोक्ता यदि 100 यूनिट से कम बिजली का उपयोग करते हैं तो जिले में प्रतिमाह 43 लाख यूनिट से अधिक की बचत होगी। इससे उपभोक्ताओं को तो लाभ होगा, सरकार को भी विद्युत वितरण-संधारण और अन्य कार्य पर होने वाले खर्च की बचत होगी।
योजना में यह भी
- इंदिरा गृह ज्योति योजना में पात्रता यूनिट तक खपत करने वाले पात्र बिजली उपभोक्ताओं को प्रथम 100 यूनिट तक की खपत पर अधिकतम 100 रुपए का बिल दिया जाएगा। 100 यूनिट खपत के लिए मप्र विद्युत नियामक आयोग द्वारा निर्धारित दर से गणना किए गए बिल तथा 100 के अंतर की राशि शासन की ओर से वितरण कंपनियों को सब्सिडी के रूप में दी जाएगी।
-100 यूनिट से अधिक खपत के कारण नियत प्रभार में वृद्धि होने पर मप्र विद्युत नियामक आयोग द्वारा जारी प्रचलित टैरिफ आदेश में निर्धारित दर के अनुसार बिल देय होगा। 100 यूनिट से अधिक खपत के कारण नियत प्रभार में वृद्धि होने पर अंतर की राशि हितग्राही द्वारा विद्युत वितरण कंपनी को देय होगी।
-किसी माह में पात्रता यूनिट से अधिक खपत होने पर उपभोक्ता को उस माह में योजना का लाभ नहीं मिलेगा एवं उसकी पूरी खपत पर मप्र विद्युत नियामक आयोग द्वारा निर्धारित दरों से बिल विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा दिया जाएगा।
-योजना के अंतर्गत जारी किए जाने वाले बिल अलग रंग में छापे जाएंगे। बिल में शासन द्वारा प्रदत्त सब्सिडी का स्पष्ट उल्लेख किया जाएगा।
बिल का स्लैब एेसा होगा
इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत 150 यूनिट तक बिजली की खपत होने पर उपभोक्ताओं को 385 रुपए के बिल जारी किए जाएंगे। 150 यूनिट के बाद पूरा चार्ज लगेगा। इसमें 50 यूनिट पर 4 रुपए ५ पैसे यूनिट और 60 रुपए एनर्जी चार्ज लगेगा। 51 से 150 यूनिट पर 4 रुपए 95 पैसेे यूनिट और 100 रुपए एनर्जी चार्ज लगाया जाएगा। इस तरह बिल आगे बढ़ता जाएगा।
खपत यूनिट बिजली बिल रुपए
100 100
100,150 385
151-200 900
201 -250 1501
251-300 2166
301-350 2875
- उज्जैन जिले में घरेलू बिजली उपभोक्ता ४ लाख।
-100 से 125 यूनिट तक बिजली का उपभोग करने वाले उपभोक्ता 1.75 लाख।
जिले में 100 यूनिट से कम विद्युत उपयोग पर 43 लाख यूपिट बिजली की बचत।
इनका कहना
इंदिरा गृह ज्योति योजना का लाभ छोटे बिजली खपत वाले परिवारों को मिलेगा। लोग अधिकतम 100 यूनिट बिजली की ही खपत करें, जिससे योजना का लाभ भी ले सकें। प्रदेश में बिजली की बचत भी हो सकें। यह योजना प्रदेश में सभी को बिजली बचाने के लिए प्रोत्साहित करेगी।
-आशीष आचार्य, अधीक्षण यंत्री पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी