स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आखिर क्यों बदली दीक्षांत समारोह की तारीख

pankaj vaishnav

Publish: Dec 08, 2019 02:14 AM | Updated: Dec 08, 2019 02:14 AM

Udaipur

राजभवन से कार्यक्रम परिवर्तन का आदेश, राज्यपाल 21-22 को उदयपुर, २३ को बांसवाड़ा जाएंगे, एमपीयूएटी : दीक्षान्त समारोह अब 22 को

उदयपुर . महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एमपीयूएटी) में होने वाले १३वें दीक्षांत समारोह की तारीख में राजभवन से बदलाव हो गया है। विश्वविद्यालय को मिले आदेश के अनुसार अब २३ की बजाय २२ दिसम्बर को दीक्षांत समारोह होगा। कार्यक्रम के बदलने से विश्वविद्यालय की ओर से छपवाई गई डिग्री व उपाधि प्रमाणपत्र फिर से छपवाने पड़ेंगे। इसके लिए सोमवार को बैठक बुलाई गई है।

राजभवन से जो कार्यक्रम पूर्व में तय था, उसके अनुसार २१ दिसम्बर को मोहनलाल सुखाडि़या विश्वविद्यालय में दीक्षांत समारोह प्रस्तावित है, इसके बाद २२ को बांसवाड़ा के जनजाति विश्वविद्यालय में और फिर २३ को एमपीयूएटी में दीक्षांत समारोह होना था। एेसे में राज्यपाल को २२ को बांसवाड़ा जाकर पुन: उदयपुर आना पड़ता। इसी को लेकर राजभवन से कार्यक्रम में बदलाव करते हुए अब सुखाडि़या यूनिवर्सिटी के बाद २२ दिसम्बर को एमपीयूएटी का दीक्षांत समारोह होगा। यहां से राज्यपाल २३ को बांसवाड़ा में होने वाले दीक्षांत समारेाह में शामिल होने के लिए प्रस्थान कर जाएंगे।
देंगे 687 उपाधियां
दीक्षांत समारोह में 687 स्नातक उपाधियां राज्यपाल के हाथों प्रदान की जाएंगी, जिसमें कृषि संकाय की 194, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संकाय की 390, गृह विज्ञान संकाय की 21, डेयरी एवं खाद्य विज्ञान तकनीकी संकाय की 56 तथा मत्स्यकी संकाय की 26 उपाधियां शामिल है। इसके साथ ही 148 स्नातकोत्तर व 65 विद्यार्थियों को पीएचडी की उपाधि प्रदान की जाएगी। ३९ विद्यार्थियों को गोल्ड मैडल दिए जाएंगे।

[MORE_ADVERTISE1]