स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मानसून में ही जल संकट, महिलाओं ने रोका रास्ता

Krishna Kumar Tanwar

Publish: Sep 20, 2019 19:26 PM | Updated: Sep 20, 2019 19:26 PM

Udaipur

दो घंटे प्रदर्शन के बावजूद मौके पर नहीं पहुंचे अधिकारी

उदयपुर . मानसून विदा भी नहीं हुआ है, उससे पहले ही शहर की बस्तियों में जल संकट मंडराने लगा है। गुरुवार को आयड़ और आसपास के क्षेत्र की महिलाओं ने जल संकट को लेकर ***** जाम किया लेकिन इनकी समस्या सुनकर समाधान निकालने के लिए दो घंटे तक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे।सुबह करीब साढ़े आठ बजे आयड़, सबरी कॉलोनी, घरबड़ा गली, सुथारवाड़ा की महिलाएं पुरानी पुलिस चौकी के नजदीक एकत्र हुई, जहां उन्होंने जलदाय विभाग के विरोध में नारेबाजी करते हुए मार्ग जाम कर दिया। सडक़ के दोनों ओर वाहनों की कतारें लग गई। सूचना पर पार्षद पति महेश भावसार और अन्य लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने समझाइश कर मार्ग खुलवाने का प्रयास किया, लेकिन महिलाएं अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़ी रही। भावसार ने अधिकारियों को फोन किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। करीब दो घंटे बाद क्षेत्रीय सहायक अभियंता मांगीलाल भांबी मौके पर पहुंचे।

आम लोगों की कब सुनेंगे


पार्षद पति महेश भावसार ने बताया कि अधीक्षण अभियंता सहित अन्य अधिकारियों को कई बार फोन करने के बावजूद फोन नहीं उठाया। आखिर सहायक अभियंता ने फोन उठाया और मौके पर पहुंचे। इस सबमें करीब दो घंटे निकल गए। ऐसे में लोगों से समझाइश करना भी भारी पड़ गया।

इससे तो 72 घंटों की सप्लाई अच्छी


प्रदर्शनकारी महिलाओं ने कहा कि इससे तो कुछ समय पूर्व तक 72 घंटों में की जा रही सप्लाई ही सही थी। उससे हर घर में पानी तो आ रहा था। अभी मानसून अंतिम दौर में है और जल संकट के हालात उत्पन्न हो गए हैं, आगे क्या होगा।


जल उत्पादन हमारे उपखंड के अधीन नहीं है। हम वॉल्व खोलकर सप्लाई देते हैं। सप्लाई के बीच में पानी रुकने पर सप्लाई प्रभावित होती है। उच्चाधिकारियों से बात कर समस्या का स्थायी समाधान निकालने का निवेदन किया है।

- मांगीलाल भांबी, सहायक अभियंता नगर उपखंड सप्तम