स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निकाली चेतावनी रैली

Surendra Singh Rao

Publish: Sep 17, 2019 02:58 AM | Updated: Sep 17, 2019 02:58 AM

Udaipur

(memorandem to sdm)

उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा

उदयपुर ऋषभदेव. कस्बे में सोमवार को जनवादी मजदूर यूनियन एवं भ्रष्टाचार विरोधी संघर्ष समिति के तत्वावधान में चेतावनी रैली निकाली गई। ऋषभदेव में पशु आवास में 6200 से अधिक लाभार्थियों की जांच एक माह बाद भी पूरी नहीं होने व जांच में कथित लीपापोती के विरोध में रैली निकाली गई। साथ ही चेतावनी दी गई कि 21 अक्टूबर तक सभी लाभाथियों की हड़पी गई राशि खाते में नही आई तो पुन: प्रदर्शन किया जाएगा। बाद में रैली उपखण्ड कार्यालय पहुंची, जहां उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया। बाद में रैली पुन: बस-स्टैण्ड पंहुचकर सभा में बदल गई। मजदूर यूनियन के डीएस पालीवाल व शांतिलाल ने विचार व्यक्त किए। तहसील कार्यालय के बाहर भूख हड़ताल पर बैठे युवा

अधिकारियों ने किया समझाइश का प्रयास

मावली(निप्र). कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर चरमरा रही चिकित्सकीय व्यवस्थाओं के विरोध में कस्बे के 5 युवा सोमवार को तहसील कार्यालय के बाहर प्रात: 9 बजे भूख हड़ताल पर बैठ गए है।
गौरतलब है कि इन युवकों ने अव्यवस्था के खिलाफ चिकित्सालय में विरोध जताया था। साथ ही व्यवस्था सुधार को लेकर समय दिया था। मगर 3 दिन बाद भी अव्यवस्थाओं में सुधार नहीं होने पर सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय के पूर्व केन्द्रीय छात्र संघ अध्यक्ष भवानीशंकर बोरीवाल, लव गुर्जर, कैलाश जाट, किसान नेता भेरूलाल जाट, ललित सेन तहसील कार्यालय के बाहर भूख हड़ताल पर बैठ गए। नेहरू युवा केन्द्र मावली, बीजेपी यूथ टीम, शिवदल मेवाड़, बजरंग दल, , यूथ कांग्रेस, युवामंच मावली, भीम आर्मी, ह्यूमन राइट्स, राजकीय महाविद्यालय मावली के विद्यार्थियों सहित कई संगठनों ने मांग को उचित ठहराकर भूख हड़ताल का समर्थन किया। पूर्व विधायक दलीचंद डांगी, हेमराज जाट, मावली पूर्व सरपंच मोहनलाल जाट, भाजपा जिला मंत्री कुलदीपसिंह चुण्डावत सहित कई लोग तहसील कार्यालय के बाहर पहुंचे तथा आंदोलन का समर्थन किया।
इधर, ब्लॉक मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ.मनोहरसिंह यादव, मावली सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र प्रभारी डॉ.हामिद हुसैन एवं थानाधिकारी उदयसिंह चुण्डावत भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने 3 दिन में मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया। मगर, युवाओं ने मांग पूरी नहीं होने तक भूख हड़ताल पर बैठे रहने का निर्णय लिया।