स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महापौर के दावेदार उदयपुर के चुनावी मैदान में 59 वार्डों से लड़ सकते चुनाव

Mukesh Hingar

Publish: Oct 23, 2019 00:09 AM | Updated: Oct 23, 2019 00:09 AM

Udaipur

नगर निगम चुनाव 2019

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. नगर निगम में महापौर का पद ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षित होने के बाद अगर पार्षद में से ही महापौर चुना जाता है तो उदयपुर में ओबीसी वर्ग से पार्षद बनने वालों के लिए 70 में से 59 वार्ड है। इन वार्डों में महापौर पद के प्रत्याशियों को उतारा जा सकता है। वैसे दोनों ही पार्टियां महापौर किसको बनाएगी यह नाम पहले नहीं घोषित करती है ऐसे में जितने दावेदार है वे अपने हिसाब से सुरक्षित वार्ड से पार्षद का चुनाव लडऩे की पहली रणनीति बना रहे है। वैसे राज्य सरकार ने बिना पार्षद बने ही महापौर का चुनाव लडऩे की प्रक्रिया सामने रखी है लेकिन अभी कांग्रेस में ही उठे विरोध से अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हो पा रही है। ऐसे में अगर फिर से यह तय हो जाता है कि जीते पार्षद में से ही महापौर का चुनाव लड़ सकते है तो उदयपुर में ओबीसी महापौर से पहले पार्षद बनने के लिए ५९ वार्ड सामने है, ओबीसी के जितने दावेदार सामने आए है वे इन वार्डों में से अपना सुरक्षित वार्ड खोजने लगे है वैसे अभी तो इनके लिए पार्षद का टिकट लाना पहली कोशिश होगी। इन 59 वार्ड में से शहर विधानसभा के 43 तो ग्रामीण विधानसभा के 16 वार्ड आते है।

सामान्य महापौर के वार्ड बहुत कम थे

निगम की ओबीसी सीटी आरक्षित हुई लेकिन सामान्य सीट को लेकर भी दावेदारों की संख्या बहुत थी। सामान्य सीट के लिए शहर में मात्र 29 वार्ड ही चुनावी मैदान थे जबकि ओबीसी के लिए चुनावी मैदान के रूप में 59 वार्ड है।

वार्डों से समझे पूरी गणित

ये वार्ड वैसे भी ओबीसी के लिए आरक्षित है

- ओपन ओबीसी : 4, 7, 8, 10, 13, 19, 26, 40, 46, 61 (कुल वार्ड 10)
- ओबीसी महिला : 5, 31, 52, 63, 66 (कुल वार्ड 05)

ये सामान्य वार्ड जहां भी लड़ सकते ओबीसी

- सामान्य वर्ग : 2, 3, 12, 14, 17, 18, 22, 25, 28, 29, 30, 32, 36, 37, 38, 39, 41, 44, 45, 47, 50, 51, 53, 55, 57, 59, 64, 65 व 69 (कुल वार्ड 29)
- सामान्य महिला : 15, 20, 21, 24, 27, 35, 48, 49, 54, 56, 58, 60, 62, 67, 68 (कुल वार्ड 15)