स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मां की ऐसे करतूस, दिखाया सौतेलापन अब सलाखों में

Mohammed Iliyas

Publish: Dec 07, 2019 13:21 PM | Updated: Dec 07, 2019 13:21 PM

Udaipur

मां की ऐसे करतूस, दिखाया सौतेलापन अब सलाखों में

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
शहर के सुन्दरवास क्षेत्र में हैवानियत की हदें पार कर मासूम बच्ची के साथ किए गए अमानवीय कृत्य करने वाले मां को प्रतापनगर थानापुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय ने उसे न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया। इधर, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण व सीडब्ल्यूसी के आदेश पर चाइल्ड लाइन ने पीडि़ता को उसके गांव वल्लभनगर के ही सरकारी स्कूल में कक्षा सात में दाखिला दिलाया। बच्ची के स्कूल जाने से उसकी दादी व ग्रामीण काफी खुश है। गौरतलब है कि राजस्थान पत्रिका ने एक सौतेली मां द्वारा उसकी बच्ची के मुंह में कपड़ा ठूंस गर्म संडासी से दागने की खबर प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशन के बाद जिला एवं सेशन न्यायाधीश रवीन्द्र माहेश्वरी ने गंभीरता से लेते हुए प्रकरण में संज्ञान लिया वहीं जिला एवं विधिक सेवा प्राधिकरण के आदेश पर प्रतापनगर थानापुलिस ने मामला दर्ज किया। इस मामले में पुलिस ने फरार पीडि़ता की सौतेली मां को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया। ---
यह था मामला
राजस्थान पत्रिका ने बच्ची के मुंह में कपड़ा ठूंस दागा’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। सुन्दरवास क्षेत्र में 10 नवम्बर को एक सौतेली मां ने अपनी 12 वर्षीय बेटी के मुंह में कपड़ा ठूंसते हुए गर्म संडासी से नाजुक अंगों सहित बदन पर कई जगह दागा था। बच्ची का कसूर सिर्फ इतना था कि वह पड़ोस में रह रही भाभी के यहां छोटे बच्चे को दुलारने गई थी जो सौतेली मां को बर्दाश्त नहीं हुआ। मानवता को शर्मसार करने वाले इस घटनाक्रम को ग्रामीण ने सुनकर राजस्थान पत्रिका को जानकारी दी थी। पत्रिका टीम ने इसे गंभीरता से लेते हुए पुलिस-प्रशासन के सूचना दी थी। बुधवार सुबह जिला एवं सेशन न्यायाधीश रवीन्द्र माहेश्वरी ने गंभीरता से लेते हुए प्रकरण में संज्ञान लिया। --
बच्ची का स्कूल में करवाया दाखिला
पत्रिका की खबर प्रकाशन व आरोपी की गिरफ्तारी के बाद चाइल्ड लाइन ने पीडि़त बालिका को वल्लभनगर सरकारी स्कूल में कक्षा सात में दाखिल दिलवाया। चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक नवनीत चौधरी ने बताया कि इस पूरे प्रकरण में विभाग बाल कल्याण समिति बाल अधिकारिता विभाग बाल संरक्षण आयोग का पूर्ण सहयोग रहा। चाइल्ड लाइन की टीम बालिका के परिवार से संपर्क बनाए हुए है।

[MORE_ADVERTISE1]