स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सूखी त्वचा पर बढ़ रही सर्दी की घात...हैल्दी सीजन के बावजूद चर्म रोगों का बढ़ता है प्रभाव

Krishna

Publish: Oct 21, 2019 19:26 PM | Updated: Oct 21, 2019 19:26 PM

Udaipur

अक्सर चर्म रोग हो जाने पर क्या खाएं और किन चीजों का सेवन बंद करें यह समझना मुश्किल होता है।

भुवनेश पंड्या/उदयपुर. सर्दी का सीजन शुरू होने के साथ ही सूखी त्वचा पर सर्दी की घात बढ़ जाती है। हाल यह है कि यदि समय पर उपचार नहीं किया गया तो ज्यादा परेशान होती है। उडऩे वाली मिट्टी से लेकर लोगों का धूप सेवन करने से त्वचा रोग काफी बढ़ जाते हैं। खान-पान का बेहतर नहीं होना भी त्वचा रोगों को काफी बढ़ाता है। उदयपुर शहर का पानी कठोर होने से उससे भी त्वचा रोग सर्दियों में काफी बढ़ जाते हैं। इन दिनों यानी गर्मी से सर्दी का मौसम आने के दौरान संक्रमण मौसम त्वचा में खुजली, रुखापन व कालापन की समस्या आती है। यदि संभलकर रहे तो बढ़ती सर्दी में त्वचा रोग कम हो जाते हैं।

लीवर बेहतर होना जरूरी

खासतौर से जब लीवर और आपका पाचनतंत्र स्वस्थ है तो आपकी त्वचा भी स्वस्थ है। त्वचा संबंधी रोग जैसे एक्जिमा, सोरायसिस या स्किन की सामान्य समस्याएं बढ़ती है तो लीवर स्वस्थ नहीं है। लीवर जब ठीक से काम नहीं करता तो आपके शरीर से सही तरीके से जहरीले तत्व बाहर नहीं निकल पाते।

अक्सर चर्म रोग हो जाने पर क्या खाएं और किन चीजों का सेवन बंद करें यह समझना मुश्किल होता है। चिकित्सा की उपलब्ध विभिन्न पद्धतियों के अनुसार कई अलग तरह की खाद्य सामग्री मरीज को भोजन में शामिल करने या पूरी तरह से छोडऩे की सलाह दी जाती है। ऐसे में चर्म रोग से ग्रसित मरीजों को खानपान को लेकर सही जानकारी मिलना मुश्किल हो जाता है।

चर्म रोग होने पर डाइट में सुधार क्यों जरूरी


कुछ खास चीजों का खाना बंद कर त्वचा की स्थिति में थोडा सुधार हो सकता है। इसके उलट गलत खान पान की आदतें आपकी स्थिति और बिगाड़ सकती हैं। कुछ चिकित्सा पद्धतियां ऐसी हैं, जिनमें दवाई के साथ-साथ परहेज को गंभीरता से लेना पड़ता है। स्किन की समस्या लालपन, खुजली और गर्म सी लगने वाली है तो आपको कुछ खास चीजों से तौबा करनी पड़ेगी। इस तरह की स्थिति में ऐसी चीजें,जो आपके शरीर के तापमान को बढ़ाती हैं, आग में घी का काम करेगी।


अल्कोहल या शराब

सर्दियों में शरीर को गर्माहट देने के मकसद से शराब का सेवन किसी मरीज की त्वचा संबंधी मुश्किलों को बढ़ा सकते हैं। अल्कोहल के सेवन के बाद स्किन समस्या में इजाफा होता है। अल्कोहल के सेवन से चर्मरोग के चेहरे या सिर पर होने की स्थिति में पूरी तरह वर्जित है। मुंहासों और सोरायसिस की स्थिति में शराब छोडऩा बेहतर होगा। मिर्च मसाले, तीखी मिर्च, काली मिर्च और अन्य तरह के तीखे मसालों का बार-बार सेवन तकलीफ बढ़ा सकता है।



ये है त्वचा रोग

1. त्वचाशोथ

2. घमोरियां

3. दाद

4.खाज

5. सफेद दाग

6. कुष्ठ रोग

7. मुंहासे

8.फ ोड़ा

9.रूसी

10. गंजापन

11. बिवाई फ टना

12. छाजन

13. छाल रोग


सूखी त्वचा मुख्य कारण

त्वचा रोग होने का मुख्य कारण सूखी त्वचा होना हैं। आमतौर पर उदयपुर का पानी कठोर है। ऐसे में यदि उस पर साबुन का उपयोग करते हैं तो त्वचा और ज्यादा सूख जाती है। साथ ही लोगों को खान-पान का भी ध्यान रखना होगा। सर्दियों में ज्यादातर लोग धूप का सेवन करते हैं इससे सूखी त्वचा पर खुजली से लेकर अन्य बीमारियां उभरती हैं। जरा सी भी त्वचा में समस्या होने पर तत्काल चिकित्सक से परामर्श लेकर उपचार करवाना चाहिए।


डॉ. असित मित्तल, चर्म रोग विशेषज्ञ, आरएनटी मेडिकल कॉलेज