स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कैब व एनआरसी का मुस्लिम समाज ने किया विरोध, रैली न‍िकाल कर पहुंचे कलेक्‍ट्रेट, जलाईं प्रतियां

Madhulika Singh

Publish: Dec 13, 2019 20:24 PM | Updated: Dec 13, 2019 20:24 PM

Udaipur

शुक्रवार को उपखंड अधिकारी सलूंबर परिसर में मुस्लिम संघ के सैकड़ों मुस्लिम समाज के लोग नागरिक संशोधन बिल एवं राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर बिल का विरोध करते हुए रैली के रूप उपखंड कार्यालय पहुंचे

सलूंबर. नगर के अंजुमन के बैनर तले मुस्लिम महासभा एवं मुस्लिम संघ के लोगों ने कैब एवं एनआरसी का विरोध करते हुए प्रतियां जलाई तथा राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया। शुक्रवार को उपखंड अधिकारी सलूंबर परिसर में अंजुमन के बैनर तले मुस्लिम महासभा एवं मुस्लिम संघ के सैकड़ों मुस्लिम समाज के लोग नागरिक संशोधन बिल एवं राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर बिल का विरोध करते हुए रैली के रूप उपखंड कार्यालय पहुंचे जहां विरोध स्वरूप दोनों बिल की प्रतियां जलाई एवं उपखंड अधिकारी को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर बताया कि
पांच छह साल से सत्तारूढ़ दल एक ख़ास मकसद को लेकर काम कर रही है जिसमेंं कभी लव जिहाद, कभी एनआरसी और कभी नागरिकता संशोधन विधेयक के जरिये संविधान की धज्जियां उड़ाने का कार्य हो रहा है एवं दोनों बिल भारतीय मुसलमान के साथ नाइंसाफी है। नागरिकता संशोधन विधेयक और नेशनल सिटीजन रजिस्टर संविधान के अनुच्छेद 14-15 का खुला उल्लंघन है, भारतीय संविधान जाति और धर्म के अधिकार पर किसी भेदभाव का निषेध करता है और यह विधेयक धर्म के आधार पर भेदभाव पैदा करने वाला है।
यहां लोकतंत्र और संविधान को रोंदा जा रहा है। किसी भी दल का घोषणापत्र देश के संविधान से बड़ा नहीं होता है और हमारा विरोध राजनैतिक नहीं संवैधानिक और नैतिक है। इस विधेयक के पिछे का मकसद मौजूदा सरकार हिंदू मतदाताओं को अपने पक्ष में करने की कोशिश में प्रवासी हिंदुओं के लिए भारत की नागरिकता देकर यहां बसाना चाहती है और इस विधेयक के बहाने असम में एनआरसी लिस्ट से बाहर हुए अवैध हिंदुओं को वापस भारतीय नागरिकता पाने में मदद करना चाहती है व
इस बिल की वजह से असम में एनआरसी के तहत सिर्फ़ मुसलमानों पर केस चलेगा।

[MORE_ADVERTISE1]