स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां पर्यटकों को मिलता है रोलर कोस्टर का आनंद, मिमिक्री के माध्यम से बयां की दशा-दुर्दशा

Madhulika Singh

Publish: Oct 21, 2019 13:55 PM | Updated: Oct 21, 2019 13:55 PM

Udaipur

ओपन माइक : कविता मिमिक्री और बेबाक राय के माध्यम से खूब कसे तंज

उदयपुर. हंसी-मजाक और मौज-मस्ती के माहौल के बीच शहर के युवाओं ने निराले अंदाज में कई मुद्दों और समस्याओं को लेकर पत्रिका के ओपन माइक प्रोग्राम के दौरान शासन-प्रशासन पर व्यंग बाण छोड़े। इस मौके पर युवाओं ने लेकसिटी में चारों ओर खुदी सडक़ों के गड्ढ़े, देश में व्याप्त भूखमरी और बेरोजगारी, नेताओं की बयानबाजी और बदलते परिवेश पर बेबाकी से अपनी राय रखी।
गौरतलब है कि पत्रिका और द आर्टिस्ट हाउस के साझे में हुए इस कार्यक्रम का आगाज मयंक ने शहर में धीमी गति से चल रहे स्मार्ट सिटी कामों पर तंज कसते ‘बैठे-बैठे क्या करें.. शुरू करो कुछ काम, खोद दो सारी सडक़ें लेकर स्मार्ट सिटी का नाम’ से किया। उसके साथ अन्य युवाओं ने शहर की सडक़ों पर बने गड्ढ़ों की तुलना मॉडर्न आर्ट से भी की। वहीं, भारतेंदु ने कहा कि प्रोग्राम में देरी से आने की वजह भी यही सडक़ें ही थी। शहर के वर्तमान हालात को बयां करते उसने कहा कि यहां आने वाले पर्यटक रोलर कोस्टर का आनंंद फ्री में ले सकते हैं।
कार्यक्रम में प्रतिभाशाली युवा ने मिमिक्री के माध्यम से मोदी, सेफ अली खान, सलमान और अमिताभ की आवाज और अंदाज में शहर की दशा-दुर्दशा को बयां किया।
इधर, द आर्टिस्ट हाउस के जीएम वासुनीत ठाकुर ने धर्म के नाम पर पाखण्ड को छोड़ मानवता का संदेश दिया। जगबीर ने मेवाड़ के शौर्य का बखान कर जोश भरा, तो कार्तिक राजसिंह ने गिटार पर सावन बीतो जाए... गीत छेडकऱ माहौल रंगीन कर दिया। इसी बीच नवनिधी शर्मा ने अंग्रेजी कविता के माध्यम से लड़कियों की अनकही बातों को रेखांकित करते नये दौर की लड़कियों का अंदाज बयां किया। राहुल शर्मा ने शायराना अंदाज में देश में भूखमरी और बेरोजगारी के मुद्दों की बहस छेड़ी। इनके अलावा प्रशांत, हिमांशु और आशुतोष ने भी अपने-अपने अंदाज में मन की बातें बयां की।