स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : स्कील डवलपमेंट में चीन-कोरिया भारत से आगे, 21वीं सदी कौशल आधारित शिक्षा की

Mukesh Hingar

Publish: Sep 17, 2019 08:42 AM | Updated: Sep 17, 2019 08:42 AM

Udaipur

मणिकर्णिका-2019 का समापन समारोह

उदयपुर. सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय के आर्टस कॉलेज में संचालित रेडिमेड गारमेंट के छात्र-छात्राओं को विभिन्न प्रतियोगिताओं में बाजी मारने पर सम्मानित किया गया। आट्र्स कॉलेज के सभागार में सोमवार को लायंस क्लब एलीट, मेवाड़ गौरव एवं रेडिमेड गारमेंट के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित मणिकर्णिका-2019 के समापन समारोह के मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. नरेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा कि 21वीं सदी कौशल आधारित शिक्षा की है। चीन और कोरिया में कौशल विकास का स्तर 40 प्रतिशत है जबकि भारत में यह 4 प्रतिशत है। काम छोटा से छोटा हो लेकिन अच्छे से होना चाहिए। छात्र-छात्राएं अपनी प्रतिभा के बल से न केवल स्वरोजगार को आगे बढ़ाते है बल्कि दूसरों को भी रोजगार देते है। विश्वविद्यालय में इस प्रकार के कोर्स के साथ-साथ प्रशिक्षण देने की जरूरत है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए अधिष्ठाता प्रो. साधना कोठारी ने कहा कि कौशल शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय स्तर पर महिलाओं के लिए भी प्रशिक्षण कार्यक्रम होने चाहिए। प्रो. दिगविजय भटनागर ने विभाग बताया कि 5 दिनों में 40 छात्राओं ने हैंडमेड ज्वैलरी, ग्रुमींग , फेब्रिक एनवलप मैकिंग तथा हैंडीक्राफ्ट प्रतियोगिता में भाग लिया। सुखाडिय़ा विवि के कुलपति प्रो. एन एस राठौड़ ,लायंस क्लब एलीट के अध्यक्ष नीतिन शुक्ला और लायंस क्लब मेवाड़ गौरव की अध्यक्ष कल्पना शर्मा ने विजेताओं को पुरस्कृत किया। संचालन डॉ. डोली मोगरा व डॉ. मनीष श्रीमाली ने किया। आभार डॉ. गरिमा मिश्रा ने जताया। ज्वैलरी मेकिंग में योगिता, मदिहा, एनवलप मेकिंग में शाहिना बानु, प्रिया सुथार, हैंडीक्राफ्ट में पवन खटिक, कृष्णा सुथार, ग्रुमिंग प्रतियोगिता में प्रिया सुथार, मनीषा खटिक क्रमश: प्रथम एवं द्वितीय स्थान पर रही।