स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किसानों की होगी बल्ले-बल्ले, रबी व खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ा

Madhulika Singh

Publish: Dec 09, 2019 13:37 PM | Updated: Dec 09, 2019 13:37 PM

Udaipur

केन्द्र सरकार ने बढ़ाया न्यूनतम समर्थन मूल्य, दलहनी व तिलहनी फसलों की कीमतों में हुआ ज्यादा इजाफा

मानवेंद्रसिंह राठौड़/उदयपुर. केन्द्र सरकार ने रबी व खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ा दिया है। इससे किसानों की बल्ले-बल्ले हो गई है। अनाज वाली फसलों की बजाय दलहनी व तिलहनी फसलों के समर्थन मूल्य में अधिक इजाफा किया गया है। केन्द्र सरकार ने वर्ष 2019-20 के लिए फसलों के नए समर्थन मूल्य की सूची भी जारी कर दी है। इससे रबी में पैदा होने वाली फसलों से किसानों को अच्छी आमदनी होगी। देश में दालों की कमी को देखते हुए इन फसलों के मूल्यों में ज्यादा बढ़ोतरी की गई है। हमारे यहां अधिकतर दलहनी व तिलहनी फसलें विदेशों से आयात होती है। सर्वाधिक बढ़ोतरी अरहर में हुई। इसके दाम 5675 रुपए प्रति क्विण्टल से बढ़ाकर 5800 रुपए, मसूर 4475 से बढ़ाकर 4800 रुपए व चने में 4620 से बढ़ाकर 4875 किया गया है। गेहूं, जौ व चने का क्षेत्र बढऩे से इनक ा न्यूनतम समर्थन मूल्य भी बढ़़ाया गया है।


फसल वर्ष 2018-19 वर्ष 2019-20

चावल 1750 1815
म़क्का 1700 1760

अरहऱ 5675 5800
उड़द 5600 5700

मूूंग 6975 7050
मूंगफली 4890 5090

तिल 6249 6485
गेहूं 1840 1925

सरसो 4200 4425
मसूर 4475 4875

चना 4620 4875
जौ 1440 1525

कपास 5150 5255
(समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल )

किसानों को होगा फायदा
भारत सरकार ने वर्ष 2019-20 की रबी व खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ा दिया है, इससे किसानों को उपज के दामों में फायदा मिलेगा।

- केएनसिंह, कृषि उप निदेशक (विस्तार )

[MORE_ADVERTISE1]