स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लालन के पालने में आने पर झूमेगा शहर, कृष्ण जन्मोत्सव पर दो दिन मचेगी धूम

pramod soni

Publish: Aug 20, 2019 13:06 PM | Updated: Aug 20, 2019 13:38 PM

Udaipur

लालन के पालने में आने पर झूमेगा शहर, कृष्ण जन्मोत्सव पर दो दिन मचेगी धूम

प्रमोद सोनी / उदयपुर.(krishna janamashtam) श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व 23 व 24 अगस्त को धूमधाम से मनाया जाएगा। शहर के विभिन्न मंदिरों में अलग-अलग दिन मनाई जाएगी। (krishna janamashtam)जन्मोत्सव को लेकर मंदिरों में तैयारियां जोरों चल रही है। जन्मोत्सव के दूसरे दिन मंदिरों में नन्दोत्सव के आयोजन होंगे व बधाई गीत गाए जाएंगे। दधिका महोत्सव के आयोजन होंगे। जगदीश मंदिर, अस्थल आश्रम, श्रीनाथ मंदिर, बाईजी राज कुंड सहित विभिन्न मंदिरों में विशेष आयोजन होंगे।श्रीकृष्ण (janamashtami)जन्माष्टमी पर्व पर जगदीश जगदीश मंदिर में 23 अगस्त को मनाया जाएगा। जन्मोत्सव को लेकर मंदिर पर विद्युत सज्जा की जाएगी व मंदिर को सजाया जाएगा। सुबह 5.15 बजे मंगला आरती होगी। इसके बाद ठाकुरजी को पंचामृत स्नान होगा। पुजारी गजेंद्र ने बताया की ठाकुरजी को जन्माष्टमी पर्व का विशेष केसरिया वस्त्र का शृंगार धारण कराया जाएगा। इसके बाद रात को 12 बजे ठाकुरजी को भोग लगाया जाएगा व रात 12.30 बजे जन्मोत्सव की महाआरती होगी। इस दौरान ठाकुरजी को पालने में झूलाया जाएगा। महाआरती के बाद भक्तों को पंजेरी, पंचामृत का का प्रसाद वितरित किया जाएगा। दूसरे दिन 24 अगस्त को मंदिर में नन्दोत्सव मनाया जाएगा। इस दौरान ठाकुरजी का पालना सभा मंडप में लाया जाएगा। बधाई गीत गाए जाएंगे।धर्मोत्सव समिति मेवाड़ की ओर से जगदीश चौक में 24 अगस्त को दधिका महोत्सव मनाया जाएगा। धर्मोत्सव समिति मेवाड़ ने महोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी है। इस अवसर पर जगदीश चौक पर सांस्कृतिक कार्यक्रम व दधिका महोत्सव का आयोजन होगा। इस दौरान जगदीश चौक में दही-हांडी 25 फ ीट की ऊंचाई में बांधी जाएगी। विजेता टीम को 25 हजार रुपए का इनाम व शील्ड प्रदान की जाएगी। अस्थल मंदिर में 24 अगस्त को(krishna janamashtam) कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा। जन्मोत्सव की तैयारियों में मंदिर पर विशेष विद्युत सज्जा की जाएगी एवं मंदिर में कृष्ण अवतार की विभिन्न झांकियो के दर्शन होंगे। आश्रम के रास बिहारी शरण ने बताया कि जन्मोत्सव पर्व पर ठाकुरजी चांदी के विमान में विराजेगे व स्वर्ण झूले में बाल-गोपाल को झूलाया जाएगा। जन्मोत्सव की आरती रात को १२.३० बजे होगी। दूसरे दिन नन्दोत्सव मनाया जाएगा।नाथद्धारा में उत्साह का माहौलनाथद्वारा. पुष्टिमार्गीय वल्लभ सम्प्रदाय की प्रधानपीठ श्रीनाथजी मंदिर में जन्माष्टमी पर्व 24 एवं 25 अगस्त को अपार उत्साह एवं धूमधाम से मनाया जाएगा। जन्माष्टमी पर रात 12 बजे श्रीकृष्ण के जन्म पर रिसाला चौक में 21 तोपों की सलामी भी दी जाएगी। प्रभु श्रीनाथजी को मंगला की झांकी के दर्शन के समय विशेष शंखनाद के साथ दूध दही घी मिश्री का बुरा एवं शहद के साथ पंचामृत स्नान कराया जाएगा।शाम को मंदिर के रिसाला चौक से शोभायात्रा विभिन्न मार्गों से होते हुए पुन: रिसालाचौक में विसर्जित होगी।