स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नदी के तेज बहाव के बीच टापू पर फंसे 10 लोग, नवजात बच्‍ची भी थी शामिल , एनडीआरएफ की टीम ने किया रेस्‍क्‍यू

Madhulika Singh

Publish: Sep 14, 2019 19:27 PM | Updated: Sep 14, 2019 19:33 PM

Udaipur

सूचना म‍िलने पर पुलिस प्रशासन मौके पर पहुुंचे लेकिन दोनोंं ओर नदी के तेज बहाव और बढ़ते जल स्तर के चलते 2 घण्टे बाद रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ।

धरियावद. क्षेत्र के गंगागुड़ा के समीप जाखम नदी के तेज बहाव में एक टापू पर फंंसे एक ही परिवार के 10 सदस्यों को एनडीआरएफ की टीम ने शनिवार शाम मोटर बोट के जरिये सुरक्षित बाहर निकाल लिया। बचाए गए सदस्यों में 6 दिन की नवजात बालिका खुशी मीणा भी शामिल थी। सीआईडी डूंगर सिंह चुंडावत के अनुसार, गंगा गुडा जवान नगर निवासी शंकर लाल मीणा अपने परिवार के सदस्यों के साथ जाखम नदी के समीप एक टापू पर निवास करता था और समीप ही खेती बाड़ी करता है। दो दिन से जारी बरसात और जाखम नदी के बहाव व उफान के चलते यह परिवार शुक्रवार शाम से टापू पर फंसा रहा । शनिवार सुबह ग्रामीणों द्वारा इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को दी गई जिसके बाद पुलिस उप अधीक्षक सुरेंद्र कुमावत के नेतृत्व में पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे। लेकिन इस दौरान जाखम नदी में पानी के तेज बहाव और उफान के चलते पुलिस टीम एक छोर पर खड़ी रही। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन के आला अधिकारियों से वार्ता के बाद बीकानेर की एनडीआरफ टीम मौके पर पहुंची। जांच टीम ने दोपहर को मोटर बोट के जरिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया कुछ घंटों की मशक्कत के बाद एनडीआरएफ की टीम बारी बारी से सभी सदस्यों को टापू से बाहर निकालने में कामयाब रही। इधर सुबह सूचना पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष भानु प्रताप सिंह राणावत विकास अधिकारी भगवान सिंह कुंपावत सरपंच गणेश लाल मीणा सहित जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे थे।

हेलीकॉप्टर बुलाने की हो गई थी तैयारी मौसम खराब से नहींं पहुंंचा

जाखम नदी के बहाव क्षेत्र में फंसे लोगों को निकालने के जब सारे प्रयास फेल होते दिखे उसी समय फंसे लोगों को निकालने के लिए हेलीकॉप्टर बुलाने पर मंथन का दौर चला । इस दौरान कांग्रेस जिलाध्यक्ष भानु प्रताप सिंह राणावत ने मोबाइल के जरिये जयपुर सीएमओ में चर्चा कर स्थिति से अवगत करवाया तथा हेलीकॉप्टर की मांग रखी लेकिन खराब मौसम के चलते हेलीकॉप्टर मौके पर नहीं पहुंच सका। हालांकि बाद में एनडीआरएफ की टीम ने अपने बलबूते रेस्क्यू ऑपरेशन चला सबको सुरक्षित बाहर न‍िकाल ल‍िया।