स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रोते किसान गा रहे 'अब मत बरस म्हारा इंदरराजा'

pankaj vaishnav

Publish: Sep 17, 2019 02:37 AM | Updated: Sep 17, 2019 02:37 AM

Udaipur

जिले में अधिक बरसता के चलते फसलों में खराबी

उदयपुर . ज्यादातर समय बरसात की कमी से आहत किसान रोता है, लेकिन किसानों ने पहले खुशी देखी तो अब दुख आने वाला है। इस बार बरसात की अधिकता से फसलें गलने लगी है। हालांकि यह स्थिति सभी किसानों के साथ नहीं है, लेकिन निचले क्षेत्रों में खेती करने वाले किसान मायूस है।
पौधे पर ही फूटने लगा अंकुरण
मेनार/खरसाण . क्षेत्र के गांवों में अधिक बरसात का असर फसलों पर पडऩे लगा है। क्षेत्र में तीन हजार बीघा क्षेत्र में फसलें प्रभावित होने लगी है। खेतों में पानी भरा है, जिससे मक्का, ज्वार, तिलहन, उड़द, सोयाबीन, मूंग की फसलें बिगडऩे लगी है। उड़द, सोयाबीन, मूंग तो पौधे पर ही फिर से अंकुरित होने लगे हैं। क्षेत्र में ७० प्रतिशत तक खराबा माना जा रहा है। मावली डांगियान, मंडिकपुरा, नयाघर, पिपली वाले घर, खेडिया, माल क्षेत्र, नवानिया, बरोडिया, देवड़ा छापर, ईंटबावड़ी में भी खराबे की जानकारी मिली है।
तिलहन में 90 प्रतिशत तक खराबा
उपखण्ड के खेतों में पानी भरा है। फसलें चौपट हो रही है। किसानों ने बताया कि तिल, उड़द को सर्वाधिक नुकसान हुआ है। मूंग, सोयाबीन, बाजरा भी खराब हो चुकी है। उड़द, मूंग, तिल के पौधे सड़कर काले हो गए हैं, जबकि सोयाबीन में फिर से अंकुरण फूट गया है। माल क्षेत्र में नुकसान अधिक है। यहां 60 से 70 फसदी नुकसान बताया गया है। मेनार के किसान कन्हैयालाल ठाकरोत, अम्बालाल कानावत, विजय लाल एकलिंगदासोत ने बताया कि तिल की फसल तो पूरी तरह से खराब हो चुकी है। नवानिया के किसान ने बताया कि सोयाबीन, उड़क के फूल गिर गए। मेनार नवानिया खेरोदा, हाइवे से सटे खेत में पानी भर जाने से फसलें चौपट हुई है।
ज्यादातर फसलें खराब हो गई है। सोयाबीन में अधिक नुकसान है। किसान आहत होने लगा है। सरकार को मुआवजे की तैयारी करनी चाहिए।
औकारलाल मेनारिया, किसान, खरसाण
ज्यादा बरसता से 50 प्रतिशत से ज्यादा मात्रा में फ सलें खराब हो गई है। कुछ फ सलें पुन: अंकुरित हो रही है। किसान समस्या बता रहे हैं।
मदनसिंह शक्तावत, कृषि अधिकारी, भींडर
खेती पर आधारित परिवारों की संख्या अधिक है। गांव में ज्यादातर फ सलें अधिक बरसता से खराब हो गई है। सरकार से मांग करेंगे कि सर्वे कराकर किसानों को सहायता पहुंचाई जाए।
भगवतीलाल मेनारिया, सरपंच, खरसाण
पटवारियों से जानकारी मांगी है। 30-35 प्रतिशत तक नुकसान की जानकारी मिली है। लगातार बरसात से खराबा बताया गया है। जिला प्रशासन को जानकारी दी है।
संदीप अरोड़ा, तहसीलदार, वल्लभनगर