स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ऐसा गुदगुदाया कि दर्शक हंस-हंसकर हुए लोटपोट

Sushil Kumar Singh Chauhan

Publish: Sep 17, 2019 06:00 AM | Updated: Sep 17, 2019 02:28 AM

Udaipur

comedy king कॉमेडी किंग नाइट में सुरेश अलबेला ने बांधा समां

उदयपुर. comedy king नगर निगम द्वारा आयोजित रजत जयंती वर्ष मेले में शाम हंसने और हंसाने वाले के नाम रही। लाफ्टर चैलेंज सीजन 4 के विनर कॉमेडी किंग सुरेश अलबेला ने अपनी कलाओं से शहरवासियों को खूब गुदगुदाया। कॉमेडी किंग अलबेला ने कार्यक्रम में ऐसा माहौल बना दिया कि दीपावली से पहले ही मेले में हंसी की फुलझडिय़ां छूट गई।
संस्कृति समिति अध्यक्ष जगदीश मेनारिया ने बताया कि कार्यक्रम का प्रारंभ समाज सेवी प्रमोद सामर, दिनेश भट्ट, मनोहर चौधरी, अमृत मेनारिया, किरण तातेड़, कमल बाबेल, महापौर चंद्रसिंह कोठारी, उपमहापौर लोकेश द्विवेदी एवं अन्य ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का आगाज किया। प्रारंभ में वर्ष 2004 से 2009 तक नगर निगम में रहे पार्षदों का सम्मान हुआ। सम्मान के पश्चात मेले के मंच पर कॉमेडी स्टारों ने प्रस्तुतिया देना शुरू की। मेनारिया ने बताया कि मंच पर सर्वप्रथम हास्य कलाकार हिमांशु बवंडर ने प्रस्तुति दी। बवंडर के बाद उदय दहिया एवं सुरेश अलबेला दर्शकों को हंसा हंसा कर लोटपोट कर दिया। हिमांशु बवंडर ने घर की दैनिक दिनचर्या पर ऐसे किस्से पेश किए कि दर्शक पेट पकड़कर हंसने लगे। उसके बाद उदय दहिया की ओर से दी गई प्रस्तुति पानी की बाढ़ में 10 बच्चों का बाप बोल रहा है बचाओ बचाओ में 10 बच्चों का बाप हूं। प्रस्तुति ने दर्शकों को खूब देर तक हंसाया। परिवार पर पति पत्नी के झगड़े पर दी गई प्रस्तुति ने मेले का माहौल बदल दिया। दहिया की ओर से नाना पाटेकर, प्राण, इरफान खान, राजकुमार, शत्रुघ्न सिन्हा सहित कई फिल्मी कलाकारों की आवाज निकालकर लोगों को मंत्र मुग्ध किया गया। अंत में अलबेला ने मंच पर आकर उपस्थित दर्शकों का लंबा इंतजार खत्म कर हंसने और हंसाने की बागडोर संभाली। अलबेला ने मंच पर आकर अपने चित परिचित अंदाज में उपस्थित दर्शकों का स्वागत किया। उन्होंने मंच पर आकर हास्य रस का ऐसा फुहारा चलाया की उपस्थित दर्शक हंसी की फुहार में भीग गए। comedy king अलबेला ने चंद्रयानए धारा 370, घर परिवार, राजनीति, पाकिस्तानी हरकतों को हंसी की ऐसी चासनी में डुबोया की दर्शक दांतों तले उंगलिया दबाने लगे।