स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मुख्यमंत्री की वीसी : पूछा दवा का ऑफलाइन व ऑनलाइन रिकार्ड में डेटा मिलान क्यों नहीं...

Mukesh Hingar

Publish: Dec 06, 2019 10:10 AM | Updated: Dec 06, 2019 10:10 AM

Udaipur

मुख्यमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, कलक्टर ने कहा दुरुस्त करते हैं व्यवस्था

उदयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जिला कलेक्टर्स के साथ गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंङ्क्षसग (वीसी) में उदयपुर के तीन चिकित्सालयों में दवा की उपलब्धता को लेकर सवाल किए गए। यहां दवा का ऑफलाइन और ऑनलाइन रिकार्ड में डेटा का मिलान नहीं हो रहा था। मुख्यमंत्री गहलोत वीसी में कलक्टरों से जिले के कामकाज व योजनाओं पर चर्चा कर रहे थे। उदयपुर कलक्टर आनंदी की वीसी के दौरान धानमंडी, चित्रकूटनगर और बडग़ांव चिकित्सा केन्द्र में नि:शुल्क दवा देने को लेकर डेटा ऑनलाइन नहीं होने की जानकारी मिली। मुख्यमंत्री ने अन्य कुछ जिलों में भी दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद रोगियों को दवाएं नहीं मिलने की शिकायत को गंभीरता से लिया। बाद में उन्होंने निर्देश दिए कि कलक्टर दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें। इसकी ऑनलाइन मॉनिटरिंग भी करते हुए नि:शुल्क जांच योजना के भी प्रभावी क्रियान्वयन के निर्देश दिए। सीएम ने उदयपुर संभाग के बांसवाड़ा के प्रभारी सचिव अखिल अरोरा के जिलों के दौरे पर नहीं जाने को गंभीरता से लेते हुए कहा कि मुख्य सचिव उनसे स्पष्टीकरण लें।


ई-मित्रों पर मनमानी रोके

सीएम गहलोत ने कहा कि ई-मित्र पर आमजन से जुड़ी सेवाओं का अलग-अलग शुल्क होने के कारण अधिक पैसा वसूलने की शिकायतें सामने आती है। उन्होंने निर्देश दिए कि विभिन्न सेवाओं के लिए समान दर निर्धारित की जाए। इससे उनकी मनमानी पर अंकुश लगेगा और ई-गवर्नेंस को बढ़ावा मिलेगा।


उदयपुर में मनमानी के मामले ज्यादा
बता दें कि उदयपुर में ई-मित्रों पर मनमानी ज्यादा है। शहर से लेकर गांवों में ई-मित्रों पर मनमानी की कई शिकायतें आए दिन सामने आती है लेकिन सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। पूर्व में भी आधार कार्ड के नाम पर लूट के मामले भी शहर एवं सायरा में सामने आए थे लेकिन वहां पर औपचारिकताएं पूरी कर दी गई थी।

[MORE_ADVERTISE1]