स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विश्व की सर्वश्रेष्ठ होटल का खिताब पाने वाली राजस्थान की इस लग्जरी होटल का करोड़ों में हुआ सौदा

Mukesh Hingar

Publish: Oct 21, 2019 11:35 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:35 AM

Udaipur

उप पंजीयक समक्ष पंजीयन के लिए पेश किए दस्तावेज, पंजीयन विभाग अब करेगा संपत्ति का मूल्यांकन

उदयपुर. विश्व की सर्वश्रेष्ठ होटल का खिताब पाने वाली राजस्थान की एक लग्जरी होटल का इतने करोड़ में सौदा हुआ है। झीलों की नगरी उदयपुर में पिछोला किनारे स्थित फाइव स्टार होटल द लीला पैलेस का सौदा हुआ है। उदयपुर में शुक्रवार को पंजीयन के लिए संपत्ति संबंधी विक्रय दस्तावेज पेश किए गए। पंजीयन दस्तावेज के आधार पर स्कॉलस उदयपुर प्रा. लि. ने होटल खरीदी है। संपत्ति की बेचान कीमत अनुमानित 186 करोड़ रुपए बताई गई है अब पंजीयन विभाग की ओर से उसकी मूल्यांकन रिपोर्ट तैयार कर वास्तविक स्टाम्प ड्यूटी जोड़ी जाएगी। होटल के प्रतिनिधियों ने कानूनी सलाहकारों के साथ शुक्रवार को उदयपुर के पंजीयन कार्यालय (द्वितीय )में होटल लीला सहित करीब आठ संपत्तियों के विक्रय दस्तावेज पेश किए। दस्तावेज बड़ी संख्या में कर्टन में लेकर आए। पंजीयन कार्यालय में रखरखाव के चलते दिन भर बिजली बंद होने से कार्य नहीं हो पाया। बाद में शाम को पंजीयन दस्तावेज स्वीकार करने की प्रक्रिया की गई। पेश दस्तावेजों में होटल लीला के अलावा उदयपुर में करीब 12 फ्लैट, ब्रह्मपोल के पास 5-7 दुकानें व उसके ऊपर कमरे, शहर के छगननाथ की बाड़ी में 5 से 6 भूखंड, पार्किंग स्पेस व होटल परिसर में दुपहिया वाहन पार्किंग वाले स्थान सहित कुल आठ संपत्तियों के दस्तावेज पेश किए गए।

अफसर होटल पहुंचे मौका देखनेउप पंजीयक ने

नामी प्रोपर्टी के बेचान दस्तावेज पंजीयन के लिए सामने आने पर तत्काल पंजीयन एवं मुद्रांक विभाग की उप महानिरीक्षक श्वेता फगेडिय़ा को अवगत कराया। बाद में पंजीयन विभाग की टीम संपत्तियों का मौका देखने गई। फगेडिय़ा के साथ उप पंजीयक (प्रथम )सुबोध सिंह चारण व सुरेन्द्र बी. पाटीदार (द्वितीय )के साथ राजस्व अधिकारियों की टीम थी।

भौतिक सत्यापन के लिए बनाई टीम

पंजीयन एवं मुद्रांक विभाग की ओर से होटल व अन्य संपत्तियों की डीएलसी दर के अनुसार मूल्यांकन कर कीमत की गणना की जाएगी। इसके बाद स्टाम्प ड्यूटी जमा कर पंजीयन की प्रक्रिया होगी।

स्टाम्प ड्यूटी अनुमानित 13 करोड़ की बनेगी

प्रारंभिक गणना में विक्रेता पक्ष की ओर से संपत्ति की कीमत अनुमानित 186 करोड़ बताई गई है। उसके अनुसार स्टाम्प ड्यूटी करीब 13 करोड़ रुपए बन रहे हैं। वैसे पंजीयन विभाग की ओर से संपत्ति का मूल्यांकन करने के बाद ही अधिकृत स्टाम्प ड्यूटी तय होगी और राशि जमा कराने के बाद पंजीयन होगा। बता दें कि पांच सितारा होटल जहां स्थित है वहां भूमि का बाजार भाव काफी ऊंचा है, वहीं इसकी लोकेशन व निर्माण क्षेत्रफल का आकलन भी महत्वपूर्ण है। होटल के अलावा अन्य बेचान की जाने वाली संम्पत्तियों की कीमत देखना भी विभाग के लिए महत्वपूर्ण है।

व्यवसाय की बिक्री बुक फील्ड को

सूत्रों के अनुसार होटल लीलावेन्ट्योर ने गुरुवार को कहा कि उसने अपने व्यवसाय की बिक्री कनाडाई निवेश कोष बुकफील्ड को पूरी कर दी है और सौदे की आय का उपयोग उसके ऋणदाताओं को भुगतान में किया गया।

हां, दस्तावेज पेश किए है

होटल लीला सहित अन्य संपत्तियों के विक्रय को लेकर दस्तावेज पंजीयन के लिए विभाग में पेश किए गए है। इन संपत्तियों के मूल्यांकन के लिए टीम गठित की गई है, जो भौतिक सत्यापन कर रिपोर्ट देगी। उसके बाद स्टाम्प ड्यूटी जमा कर आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

- सुरेन्द्र बी. पाटीदार, उप पंजीयक (द्वितीय) पंजीयन विभाग, उदयपुर