स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जन कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में नहीं बरते लापरवाही - मीणा

Pawan Kumar Sharma

Publish: Nov 08, 2019 13:42 PM | Updated: Nov 08, 2019 13:42 PM

Tonk

उपखण्ड अधिकारी ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में लापरवाही नहीं बरते।

मालपुरा. उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में सोमवार को उपखण्ड अधिकारी डॉ राकेश कुमार मीणा की अध्यक्षता में ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा हुई। उपखण्ड अधिकारी ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में लापरवाही नहीं बरते।

उपखण्ड अधिकारी डॉ मीणा ने नगरपालिका अधिशाषी अधिकारी सीमा चौधरी से नॉन वेंडिंग जोन एवं अपशिष्ट की दुकानों के निरीक्षण की जानकारी चाही, जिस पर अधिशाषी अधिकारी ने कोई प्रगति रिपोर्ट पेश नहीं करने पर एक सप्ताह में सम्पूर्ण कार्य सम्पादित कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए।

वहीं सीबीईओ रमाशंकर स्वामी से सरकारी विद्यालयों के खेल मैदानों पर हो रहे अतिक्रमणों की सम्बंध में जानकारी चाही, जिसमें कही भी अतिक्रमण होने की बात सामने नही आने पर उपखण्ड अधिकारी ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि भविष्य में किसी भी विद्यालय के खेल मैदान पर अतिक्रमण होता है तो उसकी जिम्मेदारी संस्था प्रधान ही होगी।

वहीं तहसीलदार अनिल चौधरी से बरोल ग्राम पंचायत में अतिक्रमणों पर कार्रवाई की जानकारी चाही जिसमें तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए। बैठक के दौरान सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता को सिंचाई के बांधों की नहरों का भौतिक सत्यापन कर शीघ्र रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए। बैठक में जलदाय विभाग, विद्युत विभाग, पंचायतराज विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यों की भी समीक्षा की गई।

सीएलजी की बैठक सम्पन्न
निवाई. आगामी दिनों में राममंदिर पर आने वाले फैसले को लेकर पुलिस थाना परिसर में उपखंड अधिकारी जेपी बैरवा की अध्यक्षता में सीएलजी की बैठक हुई। इसमें एसडीओ ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला किसी के पक्ष में आए सभी लोगों को शांति बनाए रखनी चाहिए।

उन्होंने सीएलजी सदस्यों से शहर में शांति व सौहार्द का वातावरण बनाए रखने की अपील की। पुलिस उपाधीक्षक अंजुम कायल ने कहा कि फैसले के बाद सोशल मीडिया पर कोई भी किसी भी प्रकार की विवादित पोस्ट नहीं करें। किसी के द्वारा डाली गई विवादित पोस्ट की जानकारी तत्काल पुलिस को दें।

फैसला आने के बाद कोई भी सार्वजनिक स्थानों पर आतिशबाजी या नारेबाजी नहीं करें। उन्होंने सीएलजी सदस्यों से कहा कि संदिग्ध स्थानों व लोगों को चिह्नित कर पुलिस को अवगत करवाएं। सदर थानाधिकारी मुकेश यादव ने कहा कि सोशल मीडिया पर कोई भी विवादित टिप्पणी पोस्ट नहीं करें। बैठक में सीएलजी सदस्य विमल, सत्यनारायण मीणा, पार्षद रतनदीप गुर्जर, राजेश चौधरी, प्रहलाद सैनी आदि मौजूद थे।

[MORE_ADVERTISE1]