स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जागरूकता रैली निकाल ग्रामीणों को दिया जल संरक्षण का दिया संदेश

Jalaluddin Khan

Publish: Nov 18, 2019 16:09 PM | Updated: Nov 18, 2019 16:09 PM

Tonk

Awareness rally: जल संरक्षण को लेकर गांव में जागरूकता रैली निकाल लोगों को जल संरक्षण का महत्व बताया।

 

दूनी. युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार के निर्देश पर नेहरू युवा केन्द्र टोंक के तत्वावधान में चल रहे जल शक्ति अभियान कार्यक्रम के तहत रा. उ. मा. विद्यालय बड़ोली के विद्यार्थियों ने जागरूकता रैली निकाल लोगों को जागरूक किया। संगोष्ठी में प्रधानाचार्य नाथू लाल ने कहा कि जल को गंदगी मुक्त कर इसका सदुपयोग करना होगा तांकि हमे पीने के लिए शुद्ध जल मुहैया हो सके।

केन्द्र के स्वयंसेवक दीपक मीणा ने बताया कि विद्यार्थियों ने जल संरक्षण को लेकर गांव में जागरूकता रैली निकाल लोगों को जल संरक्षण का महत्व बताया। इसके बाद विद्यार्थियों व स्वयं सेवकों ने माताजी स्थान पर श्रमदान कर सफाई की। इस दौरान कार्यक्रम में मण्ड़ल अध्यक्ष सीताराम मीणा सहित सुरेश मीणा, शंकर सैनी, रामअवतार व ग्रामीण, विद्याथी एवं स्वयं सेवक मौजूद थे।

स्वयंसेवकों ने जागरुकता रैली के माध्यम से दिया संदेश, आमजन पॉलिथीन का उपयोग नहीं करें
देवली. राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय देवली में शनिवार को एक दिवसीय एनएसएस शिविर का आयोजन हुआ। शिविर की शुरुआत प्रधानाचार्य सुशीला प्रतिहार ने दीप जलाकर की।


कार्यक्रम अधिकारी श्रद्धा मीणा ने बताया कि इस दौरान स्वयंसेवकों की ओर से निकाली गई जागरुकता रैली को प्रधानाचार्य ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। इसमें शामिल छात्रा स्वयंसेवक आमजन को पॉलिथीन का उपयोग नहीं करने व इससे होने वाले नुकसान बताती चल रही थी।

रैली मुख्य मार्ग होकर पुन: स्कूल परिसर पहुंची। यहां स्वयंसेवकों ने अक्षय वाटिका में श्रमदान किया। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें प्रधानाचार्य सुशीला प्रतिहार व सीता साहू ने समाज सेवा की महत्ता पर प्रकाश डाला। शिविर का समापन पर प्रतिवेदन प्रस्तुत कर राष्ट्रगान के साथ किया गया।

प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता हुई
राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में पं जवाहरलाल नेहरु की 130 वीं जयंती पर एनएसएस की ओर से प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता हुई। प्राचार्य बन्नालाल ने बताया कि प्रतियोगिता में इंदिरा गांधी, लक्ष्मीबाई, सावित्री बाई फूले, एनीबिसेन्ट, भगत सिंह सहित पांच टीमें बनाई गई।

इनमें एनीबिसेन्ट टीम का जिला स्तर के लिए चयन हुआ। प्रतियोगिता का विषय 1857 से 1947 का स्वाधीनता आंदोलन रहा। प्रतियोगिता संचालन सहायक आचार्य विनय खण्डेलवाल ने किया। कार्यक्रम का संचालन एनएसएस प्रभारी डॉ. ज्योति गुप्ता ने किया।

[MORE_ADVERTISE1]