स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान के किसान की बेटी अंजली ने सेस्टोबॉल में थाईलैंड को तीन राउंड में हराकर भारत के लिए जीता रजत पदक

Pawan Kumar Sharma

Publish: Sep 22, 2019 09:41 AM | Updated: Sep 22, 2019 09:41 AM

Tonk

International Cestoball Competition: सेस्टोबॉल अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के दौरान भारत की टीम ने थाईलैंड की टीम को तीन राउंड में हराकर भारत ने रजत पदक जीता है।

राजमहल. थाईलैंड के बैंकॉक में 18 व 19 सितंबर को आयोजित हुई सेस्टोबॉल अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के दौरान भारत की टीम ने थाईलैंड की टीम को तीन राउंड में हराकर भारत ने रजत पदक जीता है। भारत की ओर से 10 लड़कियों ने भाग लिया था।

read more:Watch Video:दिन दिहाड़े चालक को गोली मार कार लूटने वाले चार आरोपी गिरफ्तार, इस काम के लिए दिया था वारदात को अंजाम

टीम में देवली उपखंड क्षेत्र की राजमहल पंचायत के नयागांव गांव की 13 वर्षीय अंजली कंवर पुत्री किशन लाल सोलंकी ने भारत की ओर से थाईलैंड में खेले गए मैच के दौरान अच्छा प्रदर्शन किया।टीम की सभी लड़कियों में सबसे कम उम्र की अंजनी कंवर थी। भारत का स्कोर 23 व थाईलैंड का स्कोर 13 रहा, जिसमें भारत का परचम लहराते हुए ट्रॉफी हासिल की है।

readv more:बीसलपुर गोकर्णेश्वर महादेव मंदिर के सामने फिर ढही बांध की सुरक्षा दीवार

उल्लेखनीय है कि अंजली कंवर राजमहल पंचायत के छोटे से गांव में एक किसान परिवार की बेटी है, जिसने अपने खेतों में खेल-खेल के दौरान सेस्टोबॉल खेल में अपनी रुचि दिखाते हुए आज विदेश में भारत का नाम रोशन किया है। थाईलैंड में खेले सेस्टोबॉल प्रतियोगिता के दौरान राज्य की 3 लड़कियों ने भाग लिया था, जिसमें टोंक जिले की नयागांव की अंजनी कंवर, जयपुर की साक्षी शर्मा व एक खिलाड़ी सीकर जिले से थी।

read more:सरकार सर्वे में ही उलझ कर रह गई और राज्यपाल राहत पहुंचा गए, बाढ़ पीडि़तों को 50 लाख देने की घोषणा

वहीं अन्य खिलाड़ी कर्नाटक, गुजरात आदि राज्यों से गई थी। अंजनी कंवर आगामी 23 सितंबर को श्रीलंका में होने वाली प्रतियोगिता में भाग लेगी। अंजली की ओर से खेले गए मैच के दौरान जीत हासिल करने को लेकर गांव व पंचायत क्षेत्र में अंजनी कवर के ताऊ पूर्व प्रधान देवली नारायण सिंह व ग्रामीणों ने गांव में मिठाई वितरित की है। वहीं छोटी सी उम्र में गांव का नाम रोशन करने को लेकर ग्रामीणों में खुशी की लहर है। थाईलैंड में खेले गए मैच के दौरान टीम की कप्तान जयपुर की साक्षी शर्मा रही।

read more: पत्नी ने पति की हत्या कर लाश को बिस्तरों में छिपाया, तीन दिन बाद अधजला शव देख परिवार के उड़े होश

पिता कर रहे है मजदूरी
अंजली के पिता किशन सोलंकी पहले राजमहल में इंजन पंप सेट सुधारने का कार्य करने के साथ ही गांव में खेती का कार्य करते थे। फिलहाल जयपुर में एक ट्रांसपोर्ट कंपनी में मजदूरी करते हैं। अंजली का पूरा परिवार अभी भी गांव में खेती का कार्य करता है। अंजली पढ़ाई के साथ ही खेतों में अपनी सहेलियों के साथ खेलती थी।

उसके बाद अंजली अपने पिता के साथ लगभग 7 साल पहले जयपुर चली गई। जहां पिता टैक्सी चलाने का कार्य करते थे। वहीं अंजली ने विद्यालय में अंजली ने सेस्टोबॉल में रुचि दिखाई। अंजली इससे पूर्व राज्य व राष्ट्रीय स्तरीय प्रतियोगिता के दौरान पंजाब, गुजरात, पश्चिमी बंगाल में राज्य का नाम रोशन कर चुकी है।