स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मालपुरा में 8 अक्टूबर से बंद इंटरनेट सेवा हुई बहाल, सोशल मीडिया पर रहेेगी पैनी नजर

Pawan Kumar Sharma

Publish: Oct 21, 2019 10:14 AM | Updated: Oct 21, 2019 10:14 AM

Tonk

Violence in Malpura : मालपुरा में विजयादशमी के पर्व पर हुई पत्थरबाजी की घटना के बाद अफवाहों को रोकने के लिए गत 8 अक्टूबर रात से लगाई बंद इंटरनेट सेवा बहाल हो गई है।

मालपुरा.शहर में विजयादशमी के पर्व पर हुई पत्थरबाजी की घटना के बाद प्रशासन की ओर से शहर में अफवाहों को रोकने के लिए गत 8 अक्टूबर रात से लगाई गई इंटरनेट सेवा पर रोक रविवार रात 12 बजे बाद से बहाल हो गई।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोरधन लाल सौंकरियां ने बताया कि शहर में पत्थरबाजी की घटना को लेकर उपजे तनाव के बाद शहर की कानून व्यवस्था बनाए रखने व अनर्गल अफवाहों पर रोक लगाने के लिए गत 8 अक्टूबर रात से इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई। जो तेरह दिन बाद रविवार रात 12 बजे बाद से बहाल कर दी गई है।

read more:बजरी के अवैध परिवहन में लिप्त 16 जनों को न्यायालय ने भेजा जेल

उन्होंने बताया कि इंटरनेट सेवा बहाल होने के बाद सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार की आपत्तिजनक पोस्ट डाले जाने पर सख्त कार्रवाई अमल में लाए जाने के लिए थाने में सोशल मीडिया के मैसेजों पर निगाह रखने के लिए अतिरिक्त पुलिसकर्मी लगाए गए हैं।

सौंकरियां ने बताया कि इंटरनेट सेवा बंद होने के बावजूद भी सोशल मीडिया में आपत्तिजनक पोस्ट डालने के मामले में एक युवक के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार भी किया जा चुका है। वहीं रविवार को भी दो युवकों की ओर से फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट को लाइक करने पर थाने में बुलाकर पूछताछ की गई है।

read more:viral : कार्यशैली से नाराज कलक्टर गरजे, चाहे कितने भी कर्मचारी हों सस्पेंड करूंगा

शांति भंग के आरोप में चार गिरफ्तार
मालपुरा.मालपुरा थानान्तर्गत झीलों की ढाणी तन पीनणी में रविवार को दों पक्षों में खेत जोतने को लेकर हुए विवाद में पुलिस ने चार लोगों को शांति भंग करने पर गिरफ्तार किया।

थाना प्रभारी रवीन्द्र सिंह ने बताया कि झीलों की ढाणी तन पीनणी में खेत जोतने को लेकर हुए विवाद के दौरान रामअवतार मीणा, कालू मीणा, रामजीलाल मीणा एवं भंवर लाल मीणा के बीच आपसी मारपीट हो गई।

सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची तथा मामले की गंभीरता को देखते हुए दोनों पक्षों के चार लोंगों को शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार किया।