स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

संगोष्ठी में किसानों को मेंढों का वितरण कर नवीन तकनीक का उपोग करने को कहा

Pawan Kumar Sharma

Publish: Dec 11, 2019 13:44 PM | Updated: Dec 11, 2019 13:44 PM

Tonk

केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान अविकानगर में मंगलवार को किसान संगोष्ठी एवं मेंढा वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

मालपुरा. केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान अविकानगर में मंगलवार को किसान संगोष्ठी एवं मेंढा वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्रधान वैज्ञानिक एवं नोडल अधिकारी डॉ रमेशचंद्र शर्मा ने बताया कि संस्थान के पशु आनुवांशिकी एवं प्रजनन विभाग में चल रही मेगा शीप सीड परियोजना के अन्तर्गत किसान संगोष्ठी एवं मेंढा वितरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपखण्ड अधिकारी डॉ राकेश कुमार मीणा ने किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसानों को संस्थान द्वारा विकसित की गई नवीन तकनीकों का उपयोग कर पशु पालन करना चाहिए, जिससे उनकी आमदनी बढ़ाई जा सकती है।

कार्यवाहक निदेशक डॉ राघवेन्द्र सिंह ने पशुपालकों का आह्वान किया कि पशु पालक संगठित होकर कार्य करे, जिससे उनकी रोजमर्रा की समस्याओं का समाधान शीघ्र हो सकेगा। किसान संगोष्ठी समन्वयक डॉ अरुण कुमार ने किसानों को मेगा शीप सीड परियोजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर प्रधान अन्वेषक डॉ प्रशांत कुमार मलिक, डॉ आर्तबंधु साहू, डॉ एसआर शर्मा, डॉ एसके सांख्यान, डॉ आरसी शर्मा, डॉ सीपी स्वर्णकार, डॉ देवेन्द्र कुमार एवं डॉ राजकुमार ने भी किसानो को पशु पालन के सम्बंध में जानकारी दी। संगोष्ठी में उपखण्ड क्षेत्र के आमली, लावा, लक्ष्मीपुरा, तांतियां, रिण्डलियां, मालपुरा क्षेत्र के पशु पालकों ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन डॉ लीलाराम गुर्जर ने किया।

प्रशिक्षण में सहभागिता निभाने की दी जानकारी
पीपलू (रा.क.). राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय लोहरवाड़ा में एसएमसी, एसडीएमसी सदस्यों के दो दिवसीय गैर आवासीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन हुआ, जिसकी अध्यक्षता प्रधानाचार्य रामजीलाल मीणा ने की। इसमें दक्ष प्रशिक्षक रामलाल जाट ने पंजीयन, प्रार्थना, परिचय के बाद सहजता की गतिविधियां, सामुदायिक गतिशीलता की अवधारणा, विद्यालय विकास एवं प्रबंधन समिति की विस्तार से चर्चा की।

साथ ही सभी सदस्यों को प्रेरित करते हुए अपना अमूल्य योगदान देने के लिए प्रेरित किया। द्वितीय सत्र में स्वच्छ विद्यालय की अवधारणा, नामांकन, ठहराव, उपस्थिति और मिड डे मील पर विस्तार से चर्चा कर उसके सकारात्मक परिणाम सबके सामने रखे गए। सभी एसएमसी एसडीएमसी सदस्यों को जन सहयोग की विस्तार से जानकारी देते हुए एसएमसी एसडीएमसी के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा जन सहयोग जुटाने पर बल दिया। इस प्रशिक्षण में शिक्षक आशीष गुप्ता ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

[MORE_ADVERTISE1]