स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अतिवृष्टि से नष्ट हुई फसलों के मुआवजें की मांग, भारतीय किसान संघ ने एसडीओ को सौंपा ज्ञापन

Pawan Kumar Sharma

Publish: Sep 11, 2019 21:07 PM | Updated: Sep 11, 2019 21:07 PM

Tonk

Demand for compensation: भारतीय किसान संघ ने एसडीओ को अतिवृष्टि से नष्ट हुई खरीफ की फसल का मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा।

देवली. क्षेत्र में अतिवृष्टि से नष्ट हुई खरीफ की फसल का मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर बुधवार को भारतीय किसान संघ ने एसडीओ उपखण्ड अधिकारी अशोक कुमार त्यागी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि मौजूदा मानसून सत्र में लगातार बारिश होने से मंूग, उड़द, तिल, बाजारा, मक्का सहित खरीफ की शत-प्रतिशत फसल खराब हो गई।

read more: गुंजी किलकारी, हड़ताल का बंधन और वेतन की सलाखें भी नहीं रोक पाई मानवता को, धरना दे बैठी श्रमिक के सहयोग से प्रसूता ने दिया बालक को जन्म

उक्त फसले नासिरदा उपतहसील की नासिरदा, डाबरकलां, थांवला, हिसामपुरा, बीजवाड़, मालेड़ा, रतनपुरा गांव की है। ग्रामीणों ने बताया कि किसानों ने फसलों का बीमा सहकारी बैंकों में कराया है। लेकिन रिपोर्ट भेजने के बाद ही फसलों का आंकलन हो पाएगा तथा किसानों को मुआवजा मिल पाएगा। ग्रामीणों ने बताया कि वर्ष 2016 व 2018 में भी किसानों की फसलें नष्ट हुई, जिसका आज तक मुआवजा नहीं मिला।

read more:बजरी का अवैध परिवहन करते 8 डंपर जब्त, 2 जेसीबी मशीनें भी पकड़ी

इससे किसान दिनों दिन आर्थिंक संकट में उलझता जा रहा है। ज्ञापन में खराब हुई फसलों का उचित रूप से सर्वे कराकर मुआवजा दिलाने की मांग की गई। ज्ञापन देने में किसान संघ अध्यक्ष मोहनलाल सैनी, सत्यनारायण धाकड़, भारत सिंह, रामदेव बैरवा, देवलाल धाकड़, खानाराम, नाथू, मनीराम, सहित हिसामपुर व मालेड़ा सरपंच शामिल थे।

आवंटित भूमि पर अतिक्रमण
मालपुरा. उपखण्ड के तिलांजू गांव के ग्रामीणों ने राज्य के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा, मुख्य शासन सचिव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ अधिकारी टोंक को ज्ञापन प्रेषित कर गांव के उप स्वास्थ्य केन्द्र के रिक्त पदों को भरने व उप स्वास्थ्य केन्द की भूमि से अतिक्रमण हटवाने की मांग की है।

read more:विवाहिता की हत्या कर सबूत मिटाने के मामले में थाने के बाहर किया प्रदर्शन


ग्राम पंचायत सरपंच प्रियंका नरूका ने बताया कि केन्द्र में चिकित्सक सहित नर्स के पद रिक्त होने से ग्रामीणों को भारी परेशानी हो रही है। तिलांजू से मालपुरा लगभग 20 किलोमीटर दूर पड़ता है। महिलाओं के प्रसव की स्थिति में मालपुरा जाने को मजबूर होना पड़ता है।

ज्ञापन में यह भी बताया गया कि नया उप स्वास्थ्य केन्द्र निर्माण के लिए भूमि का आवंटन हो चुका है, लेकिन कुछ लोगां ने अतिक्रमण कर लिया, जिसको हटवाने के लिए कई बार ज्ञापन आदि दिए जा चुके हैं, लेकिन अतिक्रमण नहीं हटने से परेशानी हो रही है।