स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

14 साल तक की बेटियों के रक्त के लिए नहीं लगाना पड़ेगा चक्कर

Mohan Lal Kumawat

Publish: Oct 21, 2019 10:31 AM | Updated: Oct 21, 2019 10:31 AM

Tonk

सरकारी अस्पताल में 14 साल तक की बेटियों के रक्त के लिए परिजन को रक्त देने की जरूरत नहीं है। बेटियों को रक्त अस्पताल की ओर से मुहैया कराया जाएगा। वहीं केंसर पीडि़त बच्चों के लिए भी रक्तदाता तलाशा नहीं जाएगा।

टोंक. सरकारी अस्पताल में 14 साल तक की बेटियों के रक्त के लिए परिजन को रक्त देने की जरूरत नहीं है। बेटियों को रक्त अस्पताल Daughters Blood Hospital की ओर से मुहैया कराया जाएगा। वहीं केंसर पीडि़त बच्चों Cancer affected children के लिए भी रक्तदाता तलाशा नहीं Blood donors not searched जाएगा।

read more : मालपुरा में 8 अक्टूबर से बंद इंटरनेट सेवा हुई बहाल, सोशल मीडिया पर रहेेगी पैनी नजर

उन्हें भी बिना किसी परेशानी के अस्पताल प्रशासन की ओर से रक्त उपलब्ध कराया जाएगा। इसके आदेश चिकित्सा स्वास्थ्य Order Medical Health एवं परिवार कल्याण family Welfare निदेशक ने जारी किए हैं। इसके तहत अस्पताल में भर्ती admitted to hospital होने वाली 0 से 14 साल तक की बेटियों को अस्पताल की ओर से ही रक्त की व्यवस्था की जाएगी।

read more : नक्शा भी बनाया: शहर में आरएएफ ने किया मार्च

जबकि अब तक रक्तदान के पहले परिजन को रक्त देना पड़ता था, इसके बाद अस्पताल उसके बदले रक्त उपलब्ध कराता था, लेकिन गत दिनों अखिल राजस्थान लैबोरेट्री टेक्नीशियन की ओर से की गईमांग के बाद राज्य सरकार ने लाडली रक्त सेवा योजना शुरू की है।

read more : बजरी के अवैध परिवहन में लिप्त 16 जनों को न्यायालय ने भेजा जेल

टेक्नीशियन शाखा टोंक के जिलाध्यक्ष एलएल मीणा ने बताया कि कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि अस्पताल में भर्ती बालिकाओं के रक्त के लिए परिजनों को रक्तदान देना पड़ता है। वे नहीं दे पाते तो किसी से रक्तदान करने की गुहार करते रहते हैं। अब किसी भी परिजन को अपनी बेटी के रक्त के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।

आवां. जिले में साइकिल वितरण का सिलसिला जारी है। शिक्षा विभाग की ओर से दीए जाने वाले इस कार्यक्रम में क्षेत्र के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चांदसिंहपुरा में शनिवार को कक्षा 9 में अध्ययनरत 13 छात्राओं को साइकिलें वितरित की गई।

read more : विद्यालय के अक्षय पात्र से नकदी चुरा ले गए चोर , प्रधानाचार्य कक्ष समेत तीन आलमारी के ताले तोड़े

साइकिलों के मिलने के बाद छात्राओं ने खुशी जाहीर की। इस दौरान योजनाओं पर प्रकाश डालने के साथ बालिका शिक्षा के महत्व की बारीकियां समझाई। प्रभारी केसर लाल जाट ने बताया कि पीईईओ नन्दीनी गोस्वामी के निर्देशन मे सांस्कृतिक कार्यक्रम में बालिकाओं ने गीत, कविता, भाषण, लघु नाटक, नृत्य और प्रश्नोत्तरी की प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया। समारोह में बालूराम गुर्जर, रामलाल गुर्जर, मंगलराम थलेटिया आदि मौजूद थे।