स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बीसलपुर की दांयीं मुख्य नहर में पानी आने से सफाई कार्य ठप, झाडियों एवं बिलायती बबूलों से अटी पड़ी है वितरिकाएं

Pawan Kumar Sharma

Publish: Nov 18, 2019 15:15 PM | Updated: Nov 18, 2019 15:15 PM

Tonk

Canal cleaning: बीसलपुर की दांयीं मुख्य नहर में पानी आने से सफाई कार्य ठप है। यदि पानी को बंद नहीं किया गया तो मुख्य नहर की साफ.- सफाई समय पर नहीं हो पाएगी।

पलाई. पलाई क्षेत्र में बीसलपुर बांध की दांयीं मुख्य नहर एवं वितरिकाएॅ घास-फूस, कूड़े-करकट, झाडियों एवं बिलायती बबूलों से अटी पड़ी है। मुख्य नहर वितरिकाएं कई जगह से क्षतिग्रस्त है। दांयीं मुख्य नहर में पानी आने से सफाई कार्य ठप है। यदि पानी को बंद नहीं किया गया तो मुख्य नहर की साफ.- सफाई समय पर नहीं हो पाएगी।

वहीं प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं देने एवं मुख्य नहर की सफाई नहीं करवाने से किसानों को समय पर पानी नहीं मिल पाएगा। वर्तमान में मुख्य नहर पर नरेगा के तहत सफाई कार्य करवाया जा रहा है। जिस पर भी प्रशासन,अधिकारी ध्यान नहीं देने से कार्य कछवा चाल से चल रहा है। इससे नवम्बर में मुख्य नहर की सफाई नहीं हो पाएगी। इसका खमियाजा किसानों को भुगतना पड़ेगा तथा समय पर किसानों को सिंचाई का पानी उपलब्ध नहीं हो पाएगा।

टेल तक नहीं पहुंचा पानी
बनेठा. गलवा बांध की मुख्य नहर का पानी एक सप्ताह बाद भी टेल पर नहीं पहुंचा है। इससे फसलों की बुवाई समय पर नहीं होने की आशंका तले किसान मायूस है। किसान महापंचायत छात्र संगठन के प्रदेशाध्यक्ष रामेश्वर चौधरी एवं देवकरण गुर्जर ने बताया कि टेल स्थित किसानों ने गलवा बांध की नहर खोलने की संभावना से सरसों की फसल की बुवाई एक माह पूर्व समय पर कर दी थी, लेकिन गलवा बांध की नहर छोड़े जाने के एक सप्ताह बाद भी ठिकरिया, सुरेली, पावाडेरा, सेदरी, कैरोद, चितानी, सुरज्या भैरू, रघुनाथपुरा, बनेठा, गोदलाई में अभी तक पानी नहीं पहुंचा है।

इससे किसानों को 45 दिन बाद भी सरसों की पिलाई एवं गेंहू व चना की बुवाई के लिए रेलनी नहीं हो पाई है। फसलों में नुकसान की आशंका को देखते हुए मायूसी छाईहुई है। किसानों ने बताया कि संभागीय आयुक्त अजमेर की अध्यक्षता में हुई बैठक में टेल पर पानी पहले पानी पहुंचाने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन गलवा बांध की नहरों पर गेट नहीं लगाकर आगे पानी पहंचाने की कोशिश नहीं की जा रही है।


बीसलपुर बांध जल वितरण समिति की बैठक आज
टोंक. बीसलपुर बांध की दायीं व बायीं मुख्य नहर में सिंचाईके लिए पानी छोडऩे को लेकर जल वितरण समिति की बैठक सोमवार जिला कलक्टर के.के.शर्मा की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट सभागार में होगी। बैठक में जिला प्रमुख समेत विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि शामिल होंगे। इसमें नहरों में पानी छोडऩे की तिथि तय की जाएगी।


गौरतलब है कि बीसलपुर बांध से टोंक, जयपुर जिले के कई शहरों व कस्बों समेत गांवों की प्यास बुझाई जा रही है। इस साल बीसलपुर बांध का 315.50 आर एल मीटर पूर्ण भराव हुआ है। बीसलपुर बांध की 51.64 किलोमीटर दायीं मुख्य नहर से 218 गांवों की कुल 69 हजार 393 हैक्टेयर जमीन सिंचित होती है। नहर से राजमहल, संथली, दूनी, सांखना, दाखिया, मुगलानी, नगफोर्ट वितरिकाएं व टोंक ब्रांच शामिल है।

इन वितरिकाओं की कुल लम्बाई 581 किलोमीटर है। बांध की बायीं मुख्य नजर 18.65 किलोमीटर लम्बी है। कुल वितरण मंत्र 93.62 किलोमीटर लम्बा है। इससे टोडारायसिंह क्षेत्र के 38 गांवों की फसलों में सिंचाईहोती है। यहां 12 हजार 407 हैक्टेयर में सिंचाई होती है।

[MORE_ADVERTISE1]